गोवर्धन-पूजा

हिन्दू धर्मानुसार कार्तिक महीना बेहद शुभ माना जाता है। इस महीने का एक अहम त्यौहार है गोवर्धन -पूजा। गोवर्धन पूजा को कई लोग अन्नकूट के नाम से भी जानते हैं। इस दिन भगवान श्रीकृष्ण, गोवर्धन पर्वत और गाय माता की पूजा की जाती है। महाभारत,  समेत कई हिन्दू ग्रंथों में इस व्रत का वर्णन किया गया है। हिंदुओं में गोवर्धन पूजा इसीलिए मनाया जाता है क्योंकि यह मान्यता है की इस दिन भगवान कृष्ण ने भगवान इंद्र को पराजित किया था। कभी-कभी दिवाली और गोवर्धन पूजा के बीच एक दिन का अंतर हो सकता है। 

गोवर्धन पुजा क्यों मनाई जाती है


भारत के कुछ राज्यों में जैसे महाराष्ट्र में गोवर्धन पूजा को इसीलिए मनाया जाता है क्यूंकि यह मान्यता है की इस दिन भगवान् वामन ने दानव राजा बाली को पराजित किया था। भगवान वमन भगवान विष्णु के अवतार थे। गुजरात में इस दिन को नये वर्ष के रूप में मनाया जाता है।

गोवर्धन - पूजा (Goverdhan Puja)

गोवर्धन पूजा का त्यौहार हिन्दू धर्म के लोग विशेषकर यादव समुदाय के लोग बड़े ही धूम-धाम से मनाते हैं। वर्ष 2018 में गोवर्धन पूजा 08 नवंबर को किया जाएगा।

 


गोवर्धन पूजा विधि (Goverdhan Puja Vidhi)

गोवर्धन पूजा विधि (Goverdhan Puja Vidhi) की विधि निम्न है:

इस दिन प्रातः स्नान करके पूजा स्थल पर गोबर से गोवर्धन पर्वत बनाना चाहिए। इस पर्वत पर श्रद्धापूर्वक अक्षत,चंदन, धूप, फूल आदि चढ़ाना चाहिए। पर्वत के सामने दीप जलाना चाहिए तथा पकवानों के साथ श्रीकृष्ण प्रतिमा की भी पूजा करनी चाहिए।

इसके बाद पकवान जैसे गुड़ से बनी खीर, पुरी, चने की दाल और गुड़ का भोग लगाकर गाय को खिलाना चाहिए तथा पूजा के पश्चात परिवार के सभी सदस्यों को भी भोग लगे हुए प्रसाद को ही सबसे पहले खाना चाहिए।

 

गोवर्धन पूजा से संबंधित कथा (Story of Goverdhan Puja)

गोवर्धन पूजा की कथा श्रीकृष्ण काल से जुड़ी है। विष्णु पुराण के अनुसार ब्रज में इंद्र देव की पूजा करने का रिवाज था, जिसे समाप्त कर भगवान श्रीकृष्ण ने गोवर्धन की पूजा करना प्रारंभ किया था। श्रीकृष्ण जी का यह तर्क था कि इंद्रदेव तो वर्षा कर मात्र अपने कर्म को निभा रहे हैं लेकिन गोवर्धन पर्वत हमें ईंधन, फल आदि देकर हमारी सेवा भी करता है। इस बात पर देव इंद्र को बहुत क्रोध आया और उन्होंने ब्रज में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न कर दी।

बाढ़ से ब्रजवासी बड़े परेशान हो गए तथा अपने प्राण बचाने के लिए इधर -उधर भागने लगें। इस स्थिति में भगवान श्रीकृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी कानी ऊंगली पर उठा लिया, जिसके नीचे आकर सभी ब्रजवासियों ने अपने प्राण बचाए। इस घटना के बाद से ही गोवर्धन पर्वत की पूजा की परंपरा चली आ रही है।

गोवर्धन पूजा का महत्त्व (Importance of Goverdhan Puja)

मान्यता है कि इस दिन श्रीकृष्ण ने गोवर्धन पर्वत की सहायता से इंद्र का घमंड चूर किया था तथा स्वयं गोवर्धन पर्वत ने ब्रजवासियों को अपने दर्शन देकर छप्पन भोग द्वारा उनकी भूख मिटायी थी। इस प्रकार गोवर्धन पूजा करने से घर में दरिद्रता का वास नहीं होता तथा घर हमेंशा धन और अन्न से भरा रहता है।

लोग अन्नकुट (विभिन्न प्रकार के भोजन) और गायन और नृत्य के माध्यम से गोवर्धन पर्वत की पूजा करते है। लोगो की यह मान्यता है की गोवर्धन पर्वत में असली भगवान है, वह जीवन जीने का रास्ता प्रदान करते है, गंभीर परिस्थितियों में आश्रय प्रदान करते है और अपने जीवन को बचाते है। बहुत खुशी के साथ हर साल गोवर्धन पूजा का जश्न मनाने के कई रिवाज़ और परंपराएं हैं। इस दिन भगवान कृष्ण पूजा की जाती है और यह दिन बुरी शक्ति पर भगवान की विजय का प्रतीक है। लोग इस विश्वास में गोवर्धन पर्वत की पूजा करते हैं कि वे इस पहाड़ से वह हमेशा सुरक्षित रहेंगे और वे हमेशा जीवित रहने का स्रोत प्राप्त करेंगे।

लोग सुबह में अपने गाय और बैल को स्नान कराते हैं और उन्हें केसर और मालाओं आदि के साथ सजाते हैं। वह बहुत उत्साह के साथ खीर, बाताशे, माला, मीठा और स्वादिष्ट भोजन की पेशकश करके गाय की पूजा करते हैं। पूजा के दौरान प्रभु को देने के लिए वे छप्पन भोग (अर्थ में 56 खाद्य पदार्थों) या 108 खाद्य पदार्थों को तैयार किया जाता हैं।

गोवर्धन पूजा कैसे मनाये

गोकुल और मथुरा के लोग इस उत्सव को बहुत उत्साह और खुशी के साथ मनाते हैं। लोग गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा करते है जो मानसी गंगा में स्नान से शुरू होती है और मनसी देवी, हरदेवा और ब्रह्मा कुंडा की पूजा करते हुए समाप्त होती है। गोवर्धन परिक्रमा के रास्ते पर लगभग 11 सिला हैं जिनका अपना विशेष महत्व है।

लोग गोवर्धन धारी जी का एक रूप गोबर के ढेर, भोजन और फूलों के माध्यम से बनाते है और उसकी पूजा करते हैं। अन्नकुट का मतलब है, लोग भगवान कृष्ण को पेश करने के लिए विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाते है। भगवान की मूर्तियों का दूध से स्नान किया जाता है और नए कपड़े और गहनों के साथ श्रृंगार किया जाता है। फिर पारंपरिक प्रार्थना, भोग और आरती के माध्यम से पूजा की जाती है।

गोवर्धन पूजा भगवान कृष्ण के मंदिरों को सजाने और बहुत सारी कार्यक्रमों का आयोजन करके और लोगों के बीच पूजा के प्रसाद को वितरित करके पूरे भारत वर्ष में मनाया जाता है। भगवान के चरणों में अपने सिर को छूकर और प्रसाद को खाकर लोग भगवान कृष्ण का आशीर्वाद लेते है।

 

Read More: 

Anaakoot Puja Vidhi in Hindi 

Krishna Mantra in Hindi

हिन्दू व्रत विधियां 2018


लोकप्रिय फोटो गैलरी