जगन्नाथ मंदिर

जगन्नाथ मंदिर उड़ीसा के पुरी शहर में स्थित हिंदुओं का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। भगवान जगन्नाथ को श्रीकृष्ण का अवतार माना जाता है। यह मंदिर हिंदुओं के चार प्रमुख धामों में से एक है। इस मंदिर में भगवान जगन्नाथ के साथ-साथ उनके भाई बलभद्र तथा बहन सुभद्रा की भी मूर्ति स्थापित है। जगन्नाथ की उत्पत्ति से संबंधित कई कथाएं लोकप्रिय हैं। 

 


जगन्नाथ से जुड़ी एक प्रसिद्ध कथा (Story of Jagannath Temple in Hindi)

एक पौराणिक कथा के अनुसार एक दिन भगवान जगन्नाथ की मूर्ति राजा इंद्रद्युम्न को सपने में दिखाई दी। सपने में जगन्नाथ की मूर्ति देखने के बाद राजा से रहा ना गया तथा वह कड़ी तपस्या में लीन हो गया। तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु प्रकट हुए। 

भगवान विष्णु ने राजा से कहा कि वह पुरी के तट पर जाए और वहां रखे एक लकड़ी के लट्ठे से उनकी मूर्ति का निर्माण करवाए। राजा उसी समय पुरी गए तथा जैसा भगवान विष्णु ने कहा था वैसा ही किया।

इसके बाद भगवान विष्णु ने मूर्तिकार का रूप धारण किया और राजा से एक शर्त रखी।  उन्होंने कहा कि जब तक वह मूर्ति का निर्माण कार्य पूरा नही कर लेते, तब तक वह स्वयं को एक कमरे में बंद रखेंगें। इसके साथ ही, यह भी कहा कि इस बीच इस कमरे में कोई प्रवेश न करे।  


कुछ दिनों बाद कमरे से कोई आवाज नही आई, तो राजा इंद्रद्युम्न ने कमरे के अंदर खिड़की से देख लिया। इसके बाद मूर्तिकार अदृश्य हो गया। कहा जाता है कि यह मूर्तिकार कोई और नहीं विश्वकर्मा जी थे। अधूरी मूर्तियों को देखकर राजा को बहुत दुखा हुआ। राजा को उदास देख उनसे भगवान ने स्वप्न में कहा कि मुझे इसी रूप में स्थापित करें। तब से इस मंदिर में भगवान जगन्नाथ की अधूरी मूर्ति ही विराजमान है। 

 

जगन्नाथ से जुड़ी विशेषता (Facts of Jagannath Temple in Hindi)
पुरी में हर साल भगवान जगन्नाथ तथा उनके भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा की विशाल रथ यात्रा धूम-धाम से निकाली जाती है। माना जाता है कि भगवान के दर पर सबकी मनोकामनाएं पूर्ण होती है। यहां हर समय भक्तजनों की भीड़ लगी रहती है। मान्यता है कि इनकी आराधना करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है।  

जगन्नाथ मंदिर की एक अहम विशेषता है यहां स्थित रसोई जिसमें प्रतिदिन लाखों श्रद्धालुओं के लिए प्रसाद बनता है। यह रसोई दुनिया की सबसे बड़ी रसोई मानी जाती है। 

जगन्नाथ मंदिर का महाप्रसाद:

उड़ीसा की सांस्कृतिक झलक को देखना हो तो भगवान जगन्नाथ की यात्रा से बेहतर कोई समय नहीं हो सकता। जगन्नाथ पुरी रथयात्रा के दौरान उड़ीसा की हवाओं में प्रभु जगन्नाथ की आस्था का रंग घुला हुआ होता है। जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा का एक आकर्षण यहां मिलने वाला महाप्रसाद भी हैं। महाप्रसाद दो तरह का होता हैं एक सूखा और दूसरा गीला। सूखे प्रसाद में मीठाई आदि आते हैं तो दूसरे में मिक्स चावल, सब्जी, सागा भाज़ा (पालक फ्राई) और मालपुआ आदि। तो चलिए आज बनाना सीखते हैं मालपुए और सागा भाजा।

सागा भाजा बनाने की रेसिपी

सागा भाजा पालक फ्राई को कहा जाता है। आइए जानें आसानी से पालक फ्राई बनाने की विधि।

आवश्यक सामग्री -

1.     पालक- 500 ग्राम

2.     टमाटर- 2

3.     तेल- 2 टेबल स्पून

4.     हरा धनिया- 2 टेबल स्पून (बारीक कटा हुआ)

5.     हरी मिर्च- 2 (बारीक कटी हुई)

6.     अदरक- 1 छोटी चम्मच (पेस्ट) या 1 इंच टुकड़ा (कद्दूकस किया हुआ)

7.     जीरा- ½ छोटी चम्मच

8.     हींग- 1 से 2 पिंच

9.     हल्दी पाउडर- ¼ छोटी चम्मच से कम (आप चाहे तो)

10.  लाल मिर्च पाउडर- ¼ छोटी चम्मच से कम

11.  नमक- ¾ छोटी चम्मच या स्वादानुसार

बनने की विधि

सबसे पहले पालक को काट कर कम से तीन बार धो लीजिएं। फिर एक कड़ाही में तेल गर्म करें। जब तेल गर्म हो जाए तो इसमें जीरा डालें। जीरे के बाद इसमें  हींग, हरी मिर्च, अदरक और हल्दी पाउडर डाल दीजिए और मसाले को हल्का सा भून लीजिए।

इसके बाद इसमें पालक और टमाटर को चार टुकडों में काट कर डाल दीजिए। जब पालक हल्के नर्म हो जाएं तो इसमें नमक और लाल मिर्च भी मिला दीजिएं। कुछ देर बाद आप देखेंगे कि पालक पानी छोड़ने लगा है। अब पालक को बिना ढ़के पकाएं ताकि पानी सूख जाए। पांच-दस मिनट बाद जब पानी सूख जाए तो समझ जाइएं कि आपकी सब्जी तैयार है।

मालपुआ बनाने की रेसिपी

1.     1 कप मैदा या आटा

2.     1 कप खोया (कद्दूकस किया हुआ)

3.     1/2-1 कप पानी

4.     एक चुटकी केसर

5.     तेल- एक कप

6.     काजू-पिस्ता और बादाम- सजाने के लिए (बारिक कटे हुए)

 

मालपुआ बनाने की वि​धि

सबसे पहले खोया में पानी डालकर उसका मोटा पेस्ट तैयार करें। फिर मैदे का बैटर यानि मोटा घोल बना लें। फिर दोनों को एक साथ मिला लें।

अब एक पैन में घी डालें। जब घी गर्म हो जाए तो उसमें एक बड़े चम्मच से यह मिश्रण डालें। एक साइड से पक जाने के बाद मालपुआ को पलट दीजिए। मालपुआ जब किनारे से लाल रंग के हो जाए तो समझ जाइएं कि यह तैयार हैं।

इन मालपुओं को एक प्लेट में निकाल लें। मालपुओं को अब चाशनी में डुबोना है। चाशनी से निकालने के बाद मालपुओं के ऊपर बादाम, पिस्ता और केसर डालकर सजाएं। लीजिएं आपका मालपुआ तैयार है।

धार्मिक स्थल


लोकप्रिय फोटो गैलरी