हरियाली तीज

हरियाली तीज श्रावण माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया को रखा जाता है। यह त्यौहार नाग पंचमी के दो दिन पहले मनाया जाता है। यह महिलाओं के मुख्य त्यौहारों में से एक है। इस दिन शिव-पार्वती जी की पूजा और व्रत का विधान है। शिव पुराण के अनुसार इसी दिन भगवान शिव और देवी पार्वती का पुनर्मिलन हुआ था। इसे छोटी तीज या श्रवण तीज के नाम से भी जाना जाता है।

 

हरियाली तीज (Hariyali teej Puja)

उत्तर भारतीय राज्यों में तीज का त्यौहार बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। खास तौर पर राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार की महिलाओं में विशेष उत्साह देखने को मिलता है। वर्ष 2018 में हरियाली तीज की पूजा 13 अगस्त को की जाएगी। 

 

हरियाली तीज पूजा विधि (Hariyali Teej Puja vidhi in Hindi)

हरियाली तीज के दिन विवाहित स्त्रियां अपने पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखती हैं। इस दिन स्त्रियों के मायके से श्रृंगार का सामान तथा मिठाइयां ससुराल में भेजी जाती है। हरियाली तीज के दिन महिलाएं प्रातः गृह कार्य व स्नान आदि के बाद सोलह श्रृंगार कर निर्जला व्रत रखती हैं। इसके बाद विभिन्न प्रकार की सामग्रियों द्वारा देवी पार्वती तथा भगवान शिव की पूजा होती है। 

पूजा के अंत में तीज की कथा सुनी जाती है। कथा के समापन पर महिलाएं माता पार्वती से पति के लंबी उम्र की कामना करती है। इसके बाद घर में उत्सव मनाया जाता है तथा विभिन्न प्रकार के लोक नृत्य किए जाते है। इस दिन झूला -झूलने का भी रिवाज है।


 

हरतालिका तीज: मालपुआ बनाने की विधि Malpua Recipe in Hindi

 

हिन्दू समाज में कई जगह पूजा के बाद प्रसाद के रूप में देशी घी के मालपुए और खीर खाने का रिवाज है। मालपुआ कई त्यौहारों में विशेष रूप से बनाए जाते हैं जैसे तीज, होली आदि। तीज के दिन पूरे दिन के व्रत के बाद कुछ मीठा खाने की परंपरा होती है। अगर आप भी इस बार तीज का व्रत कर रही हैं तो इस बार व्रत का पारण करने के लिए मालपुआ बनाएं। आइए जानें कैसे बनाएं तीज के मौके पर मालपुआ (Malpua Recipe in Hindi)।

मालपुआ बनाने की रेसिपी (Malpua Recipe in Hindi)

समय : 20 से 30 मिनट


·         दूध- 4 कप

·         मावा या खोया - 200 ग्राम ( 1 कप )

·         मैदा - 100 ग्राम (1 कप)

·         चीनी - 300 ग्राम

·         घी - तलने के लिये

·         छोटी इलाइची या इलायची पावडर

·         बादाम (बारीक कटे हुए)

·         पिस्ते -  10-12

 

बनाने की विधि

सबसे पहले मावा को एक पैन में घी और दूध डालकर भूनें। जब यह भून तो इसे अलग निकाल लें।

इसके साथ ही एक बर्तन में दूध और चीनी डालकर गर्म करें। ऐसे करने से इसे मैदे में मिलाते समय छोटे-छोटे दाने (गुठलियां ) नहीं बनेंगे।

अब मैदे का पेस्ट बनाएं। मैदे में दूध और पानी मिलाकर अच्छा गाढ़ा पेस्ट (बैटर) बना लें। इसमें मावा, इलायची पावडर और बादाम भी मिला लीजिएं। जब मैदे का पेस्ट बन जाए तो इसे 10-15 मिनट के लिए छोड़ दीजिएं।

मालपुए तलने के लिए एक कड़ाही में रिफाइंड तेल या घी गर्म करें। ध्यान दें कि तेल अच्छी तरह से गर्म होना चाहिए। अब एक चम्मच की सहायता से बैटर को तेल में डालिएं। मालपुओं को दोनों तरफ से हल्का ब्राउन होने तक तलिए।  

एक प्लेट में टिश्यू पेपर रखिएं और फिर मालपुओं को उसमें निकालकर रख लीजिएं। ऐसे करने से टिश्यू पेपर मालपुओं का अतिरिक्त तेल सोख लेता है। लीजिएं आपके मालपुए तैयार हैं। आप इसे कटे हुए ड्राई फ्रूट के साथ सजाकर सर्व कर सकते हैं।

आप चाहें तो मैदे के बैटर में केले या पनीर को मैश करके डाल सकते हैं। आप मालपुओं को खीर या चाश्नी में डुबोकर खा सकते हैं।

 

 

हरियाली तीज से जुड़े महत्त्वपूर्ण तथ्य (Facts of Hariyali Teej Puja in Hindi)

मान्यता है कि इस दिन विवाहित महिलाओं को अपने मायके से आए कपड़े पहनने चाहिए और साथ ही श्रृंगार में भी वहीं से आई वस्तुओं का प्रयोग करना चाहिए। अच्छे वर की मनोकामना से इस दिन अविवाहित कन्याएं भी व्रत रखती हैं। कई जगह इस दिन भगवान शिव और पार्वती जी का जुलूस भी निकाला जाता है। 


लोकप्रिय फोटो गैलरी