Bhanu Saptami 2022: भानु सप्तमी तिथि, महत्व और अनुष्ठान

Bhanu Saptami 2022: भानु सप्तमी तिथि, महत्व और अनुष्ठान
Bhanu Saptami 2022: भानु सप्तमी तिथि, महत्व और अनुष्ठान

Bhanu Saptami 2022: भानु सप्तमी भगवान सूर्य की पूजा के लिए समर्पित है। यह शुक्ल पक्ष सप्तमी को मनाया जाता है जो रविवार को पड़ेगी। इस दिन को सूर्य सप्तमी या व्यवस्वत्मा सप्तमी भी कहा जाता है। भानु सूर्य देव के कई नामों में से एक है। भानु सप्तमी के दिन सूर्य देव की पूजा करने से अच्छा स्वास्थ्य, दीर्घायु और धन की प्राप्ति होती है। ऐसा माना जाता है कि जो लोग इस व्रत का पालन करते हैं वे जीवन भर कभी भी घातक बीमारियों के शिकार नहीं होते।

भानु सप्तमी 2022 तिथि

2022 में, 9 जनवरी, 22 मई और 2 अक्टूबर को भानु सप्तमी पड़ेगी। यह दिन हिंदू धर्म में बहुत महत्व रखता है क्योंकि पारंपरिक मान्यताओं के अनुसार, इस पवित्र दिन की पूर्व संध्या पर भगवान सूर्य ने अपनी पहली उपस्थिति दर्ज की थी।

भानु सप्तमी के अनुष्ठान

  • - इस दिन भक्तों को सूर्य को जल देना चाहिए और गायत्री मंत्र का जाप करना चाहिए। जल में लाल फूल, काले तिल, गुड़ और चावल मिला कर रखना चाहिए।

  • - भक्तों को पूर्व दिशा की ओर देख कर भगवान सूर्य को जल अर्पित करना चाहिए। यहां तक कि अगर अनुष्ठान करते समय सूर्य नहीं देखा जा सकता है तो भी व्यक्ति को पूर्व की ओर देखना चाहिए और अनुष्ठान करना चाहिए।

  • - प्रात:काल पूजा करते समय भक्तों को लाल वस्त्र धारण करना चाहिए।

भानु सप्तमी का महत्व

सूर्य देव को सभी ग्रहों के राजा के रूप में माना जाता है। भगवान सूर्य इस दिन मनाया जाता है और हिंदू पौराणिक कथाओं में बेहद महत्वपूर्ण है। ऐसा माना जाता है कि उनके आगमन से ग्रह पर जीवन आया है। वह इस धरती पर सारी ऊर्जा का स्रोत है। भगवान सूर्य के सारथी अरुणा हैं और वे सूर्य की भीषण गर्मी से पृथ्वी की रक्षा करते हैं। सभी प्राणियों के निर्माता माने जाने वाले भगवान सूर्य को स्वास्थ्य का स्वामी भी कहा जाता है। इस दिन भक्त सूर्य यंत्र पर सूर्य की किरणें पड़ने के बाद महाभिषेक करते हैं। लोगों का मानना है कि जो व्यक्ति इस दिन सूर्य देव की पूजा करता है, उसे अच्छे स्वास्थ्य, जीवन शक्ति, धन और दीर्घायु की प्राप्ति होती है।

Related Stories

No stories found.