कार्तिकेय या मुरुगन- Lord Murgan (kartikey) in Hindi
108 नाम

कार्तिकेय या मुरुगन- Lord Murgan (kartikey) in Hindi

Dharm Raftaar

मुरुगन हिंदू धर्म के देवता हैं। उत्तर भारत में इन्हें कार्तिकेय के नाम से भी जाना जाता है। मुरुगन को युद्ध और विजय का देवता कहा जाता है। हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार मुरुगन (कार्तिकेय) भगवान शिव और देवी पार्वती के पुत्र हैं। इनके अधिकतर भक्त तमिल हिन्दू हैं।

मुरुगन की जन्म कथा (Birth Story of Lord Murgan)

एक कथा के अनुसार जब देवी गौरा के सती होने के बाद पूरे ब्रह्मांड में राक्षसों का अत्याचार फैलने लगता है। इससे दुखी होकर सभी देवता भगवान ब्रह्मा के पास पहुंचे और अपनी रक्षा के लिए प्रार्थना की। तब ब्रह्मा जी उन्हें बताया कि इस राक्षस तारक का अंत शिव पुत्र द्वारा ही संभव है। इसके बाद देवताओं के आग्रह पर भगवान शिव और देवी पार्वती का विवाह हुआ। कुछ समय बाद बालक मुरुगन(कार्तिकेय) का जन्म हुआ जिन्हें देवताओं का सेनापति बनाया गया। 

मुरुगन का स्वरूप (Incarnation of Lord Murgan)

भगवान मुरुगन का स्वरूप एक छोटे से बालक का है। यह मोर पर बैठे हुए हैं तथा इनके माथे पर मोर पंख का मुकुट है। इनके चेहरे पर मंद मुस्कान रहती है। इनका एक हाथ वर मुद्रा में है तथा एक हाथ में तीर जैसा दिखने वाला शस्त्र है। कई जगह मुरुगन (भगवान कार्तिकेय) के छह मुख भी दिखाए गए हैं। 

भगवान मुरुगन का परिवार (Family of Lord Murgan)

मुरुगन भगवान कार्तिकेय का ही दूसरा नाम है इनके पिता भगवान शिव और माता देवी पार्वती हैं। इनका एक भाई और एक बहन भी है जिनका नाम "गणेश" और अशोक सुन्दरी(बहन) है। इनका विवाह देवी देवसेना से हुआ था।

मुरुगन से जुड़ी मुख्य बातें (Important Facts of Lord Murgan)

  1. भगवान मुरुगन के अधिकतर भक्त तमिल हिन्दू हैं।

  2. दक्षिण राज्यों खासकर तमिलनाडु में उनकी पूजा की जाती है।

  3. भगवान कार्तिकेय को ही मुरुगन नाम से पूजा जाता है।

  4. इन्हें तमीज कादुवुल अर्थात तमिल के देवता कहा जाता है।

  5. मां पार्वती के श्राप के कारण यह सदा बाल स्वरूप में ही रहते हैं।

  6. इनका वाहन मोर है।

मुरुगन के अन्य नाम (Other Name of Lord Murgan)

1. कार्तिकेय2. महासेन3. शरजन्मा4. षडानन5. पार्वतीनन्दन6. स्कन्द7. सेनानी8. कुमार

भगवान मुरुगन के प्रसिद्ध मंदिर (Famous Temples of Lord Murgan)

1. पलनी मुरुगन मन्दिर, कोयंबटूर2. स्वामीमलई मुरुगन मन्दिर, कुंभकोणम3. तिरुत्तनी मुरुगन मन्दिर, चेन्नई4. पज्हमुदिर्चोलाई मुरुगन मन्दिर, मदुरई5. श्री सुब्रहमन्य स्वामी देवस्थानम, तिरुचेन्दुर6. तिरुप्परनकुंद्रम मुरुगन मन्दिर, मदुरई7. मरुदमलै मुरुगन मन्दिर, कोयंबतूर8. 'कुक्के सुब्रमण्या मन्दिर, कर्णाटक