दुर्गा जी- Devi Durga Ji
108 नाम

दुर्गा जी- Devi Durga Ji

Dharm Raftaar

दुर्गा जी हिन्दू धर्म की देवी हैं। इन्हें आदिशक्ति के नाम से भी जाना जाता है। इनके नौ अन्य रूप है जिनकी पूजा नवरात्रों में की जाती है। माना जाता है कि राक्षसों का संहार करने के लिए देवी पार्वती ने दुर्गा का रूप धारण किया था। दुर्गा जी को तंत्र-मंत्र की साधना करने वाले साधक आदि शक्ति और परमदेवी मानते हैं। दुर्गा जी के विषय में हिन्दू धर्म में कई कथाओं का वर्णन है जिनमें से कुछ निम्न हैं:

दुर्गा जी की जन्म कथा (Birth Story of Durga Ji)

हिन्दू धर्मानुसार असुरों के अत्याचार से दुखी होकर देवताओं ने जगज्जननी देवी पार्वती का आवाहन किया। देवताओं की पुकार पर देवी प्रकट हुईं तथा उन्हें दैत्यों के अत्याचारों से मुक्ति दिलाने की बात कही। तब अपने भक्तों की रक्षा के लिए दुर्गा का रूप धारण किया और राक्षसों का अंत कर दिया। तब से ही दुर्गा को युद्ध की देवी के रूप में जाना जाने लगा। साथ ही कहा जाता है कि दुर्गेश नामक राक्षस का वध करने के कारण ही मां का नाम दुर्गा पड़ा।

दुर्गा जी के मंत्र (Durga ji Mantra in Hindi)

घर में सुख- शांति, धन और पुत्र की प्राप्ति के लिए देवी दुर्गा के इस मंत्र का जाप करें -सर्वाबाधा विनिर्मुक्तो धन धान्य सुतान्वितः।मनुष्यों मत्प्रसादेन भविष्यंति न संशय॥

दुर्गा जी का स्वरूप (Incarnation of Durga ji)

दुर्गा जी, देवी पार्वती का ही रूप है इसलिए इनका भी निवास स्थान कैलाश है। इनका वाहन शेर है। इनके आठ हाथ हैं। इनके एक तरफ के तीन हाथों में तलवार, चक्र और गदा है तथा दूसरी तरफ के तीन हाथों में कमल त्रिशूल और धनुष है। इनके अन्य एक हाथ में शंख और एक हाथ वर मुद्रा में हैं।

नवरात्र को होती है दुर्गा के नौ रूपों की पूजा (Worship of Goddess Durga At Navratra in Hindi)

नवरात्र के पावन पर्व पर देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्र के समय श्रद्धालु देवी की विशेष पूजा अर्चना करते है तथा नौ दिनों तक उपवास रखते हैं। नवरात्र त्यौहार के बारे में और अधिक जानने के लिए यहां क्लिक करें

दुर्गा जी से जुड़ी महत्त्वपूर्ण बातें (Facts of Durga ji in Hindi)

  1. दुर्गा जी के आठ हाथ हैं।

  2. दुर्गा जी का अस्त्र-शस्त्र गदा, त्रिशूल, धनुष, तलवार, चक्र, गदा, शंख हैं।

  3. माना जाता है कि दुर्गा चालीसा पढ़ने से सभी शत्रुओं का नाश हो जाता है तथा घर में सुख शांति रहती है।

  4. नवरात्रों में मां के नौ रूपों की पूजा की जाती है।

  5. दुर्गा जी को नारी शक्ति का परिचायक माना जाता है। दुर्गा जी को एक सशक्त महिला का आदर्श माना जाता है।

दुर्गा जी के नाम (Other Name of Durga Ji)

  • नारायणी

  • ईशाना

  • विष्णुमाया

  • शिवा

  • सती

  • नित्या

  • सत्या

  • भगवती

  • सर्वाणी

  • अम्बिका

  • वैष्णवी

  • गौरी

  • पार्वती

दुर्गा जी के प्रसिद्ध मंदिर (Famous Temples of Durga Ji)

मां वैष्णोदेवीमनसा देवीपावागढ़-काली मातानयना देवी-मैहर देवी-मां चामुंडा देवीकालिका माताज्वाला जी-देवास माता टेकरी