सिख धर्म के पर्व और त्यौहार

गुरु नानक जयंती

कार्तिक पूर्णिमा के दिन ‘सिख’ समुदाय के प्रथम धर्मगुरु नानक देव का जन्मोत्सव मनाया जाता हैं। सिखों के प्रथम गुरु नानक देव जी का जन्म रायभोय स्थान पर 15 अप्रैल 1469 को हुआ था लेकिन श्रद्धालु गुरु नानक जी का जन्मोत्सव...

और पढ़ें »

गुरु हरगोबिन्द जयंती

सिख पंथ के छठे धर्म-गुरु हरगोबिंद साहिब जी का जन्म 21 आषाढ़ (वदी 6) संवत 1652 ( 19 जून, 1595) को अमृतसर के वडाली गाँव में गुरु अर्जन देव के घर हुआ था। गुरु के जन्मोत्सव को ‘गुरु हरगोबिंद जयंती’ के रूप में मनाया जाता ...

और पढ़ें »

गुरु अंगद देव जयंती

सिख समुदाय के द्वितीय सत-गुरु अंगद देव जी का जन्म पाँच बैसाख संवत 1561 (31 मार्च 1504) को गाँव मत्ते की सराय जिला फ़िरोज़पुर में फेरुमल और दया कौर के घर हुआ। अंगद देव जी को लहना (लहीणा) नाम से भी जाना जाता है। गुरु अंगद देव जी के...

और पढ़ें »

गुरु राम दास जयंती

सिख धर्म के चौथे गुरु राम दास जी का जन्म बाबा हरदास मल्ल व माता दया कौर के घर 26 आश्विन कार्तिक वादी 2 संवत 1591 (24 सितंबर 1534) को चूना मंडी लाहौर में हुआ। गुरु राम दास को जेठा नाम से भी पुकारा जाता था।

गुरु र...

और पढ़ें »

गुरु पर्व

सिख धर्म के संस्थापक व प्रथम गुरु नानक देव जी के जन्म के उपलक्ष्य में गुरु पर्व मनाया जाता है। गुरु नानक देव जी के जन्मोत्सव की खुशी में गुरु पर्व मनाया जाता है। इसे गुरु नानक जयंती या गुरु नानक प्रकाशोत्सव के नाम से भी जाना जा...

और पढ़ें »

गुरु पूर्णिमा

सम्पूर्ण भारत में गुरु पूर्णिमा पर्व आषाढ़ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को श्रद्धाभाव व उत्साहपूर्वक मनाया जाता है। यह पर्व जीवन में गुरु की महत्ता व महर्षि वेद व्यास को समर्पित है। भारतवर्ष में कई विद्वान गुरु हुए हैं, किन्तु महर्षि ...

और पढ़ें »

लोहड़ी

लोहड़ी सिखों का प्रमुख त्यौहार है जो मकर संक्रांति से एक दिन पहले मनाया जाता है। यह मूलत: पंजाब का त्यौहार माना जाता है लेकिन आज यह पूरे भारतवर्ष में समान हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। लोहड़ी पारंपरिक रूप से कृषि से संबंधित त्...

और पढ़ें »

गुरु अर्जन देव जयंती

सिख समुदाय के पांचवें सत-गुरु अर्जन देव जी का जन्म 19 बैसाख संवत 1620 (15 अप्रैल 1563) को गोइंदवाल में गुरु राम दास और माता भानी के घर हुआ। गुरु अर्जन देव के जन्म उत्सव को ‘अर्जन जयंती’ के रूप में मनाया जाता है।

...

और पढ़ें »

बैशाखी

बैसाखी का त्यौहार आते ही पूरे देश में हरियाली व खुशहाली छा जाती है। वसंत ऋतु के आगमन की खुशी में बैसाखी मनाई जाती है। बैसाखी मुख्यतः पंजाब या उत्तर भारत में हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है, लेकिन इसे भिन्न-भिन्न क्षेत्रों में भि...

और पढ़ें »

गुरु गोविंद सिंह जयंती

सिख समुदाय के दसवें धर्म-गुरु (सतगुरु) गोविंद सिंह जी का जन्म पौष शुदि सप्तमी संवत 1723 (22 दिसंबर, 1666) को पटना शहर में गुरु तेग बहादुर और माता गुजरी के घर हुआ। गुरु गोविंद सिंह के जन्म उत्सव को ‘गुरु गोविंद जयंती&rsquo...

और पढ़ें »

गुरु तेग बहादुर जयंती

सिख धर्म के नौवें धर्म-गुरु (सतगुरु) तेग बहादुर जी का जन्म बैसाख पंचमी संवत 1678 (1 अप्रैल, 1621) को अमृतसर में गुरु हरगोबिन्द साहिब जी के घर हुआ। गुरु तेग बहादुर जी के जन्मोत्सव को ‘गुरु तेग बहादुर जयंती’ के रूप मे...

और पढ़ें »

गुरु हरकिशन जयंती

गुरु हर किशन सिंह, सिख समुदाय के आठवें धर्म गुरु हैं, जिन्हें बालापीर के नाम से भी जाना जाता है। गुरु हर किशन का जन्म गुरु हरराय जी के घर 7 जुलाई 1656 को किरतपुर साहिब में हुआ था। सिख समुदाय के लोग इस जन्मोत्सव को बहुत ही श्रद्...

और पढ़ें »

गुरु हरराय जयंती

सिख धर्म के सातवें गुरु हर राय जी का जन्म बाबा गुरदित्ता व माता निहाल कौर के घर 20 माघ संवत 1686 (26 फरवरी 1630) को कीरतपुर में हुआ। सिख समुदाय के लोग गुरु हर राय जी का जन्मोत्सव बहुत ही श्रद्धा भाव से मनाते हैं। इस दिन गुरुद्व...

और पढ़ें »

पांच चिन्ह

KaraKirpanKangha

सिख धर्म के प्रमुख तत्व

Narm MargGurbaniFamily
लोकप्रिय फोटो गैलरी