Raftaar Home
close button


हरतालिका तीज व्रत कथा (Hartalika Teej)
हरतालिका तीज व्रत कथा (Hartalika Teej)

भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाने वाले हरतालिका तीज व्रत (Hartalika Teej Vrat Katha in Hindi) की कथा इस प्रकार से है-

कथानुसार मां पार्वती ने अपने पूर्व जन्म ...

और पढ़ें »
बुधवार व्रत कथा (budhvar)
बुधवार व्रत कथा (budhvar)

बुध ग्रह की शांति और सर्व-सुखों की इच्छा रखने वाले स्त्री-पुरुषों को बुधवार का व्रत अवश्य करना चाहिए। 
बुधवार व्रत कथा: एक समय की बात है एक साहूकार अपनी पत्नी को विदा कराने के लिए ...

और पढ़ें »
रविवार व्रत कथा (ravivar)
रविवार व्रत कथा (ravivar)

सभी मनोकामनाएं पूर्ण करने वाले और जीवन में सुख-समृद्धि लाने वाले रविवार व्रत की कथा इस प्रकार से है- प्राचीन काल में किसी नगर में एक बुढ़िया रहती थी। वह प्रत्येक रविवार को सुबह उठकर स्नानादि ...

और पढ़ें »
शनिवार व्रत कथा (shanivar)
शनिवार व्रत कथा (shanivar)

अग्नि पुराण के अनुसार शनि ग्रह की से मुक्ति के लिए "मूल" नक्षत्र युक्त शनिवार से आरंभ करके सात शनिवार शनिदेव की पूजा करनी चाहिए और व्रत करना चाहिए। शनिदेव के बारें में जानने के लिए क्लिक करें:

और पढ़ें »
प्रदोष व्रत कथा (Pradosh)
प्रदोष व्रत कथा (Pradosh)

प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी के दिन संध्याकाल के समय को "प्रदोष" कहा जाता है और इस दिन शिवजी को प्रसन्न करने के लिए प्रदोष व्रत रखा जाता है। प्रदोष व्रत की कथा निम्न ...

और पढ़ें »
नृसिंह जयंती व्रतकथा (Narsingh Jayanti)
नृसिंह जयंती व्रतकथा (Narsingh Jayanti)

हिन्दू पंचांग के अनुसार नृसिंह जयंती का व्रत वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है. पुराणों में वर्णित कथाओं के अनुसार इसी पावन दिवस को भक्त प्रहलाद की रक्षा करने के लिए भगवान ...

और पढ़ें »
सावन सोमवार व्रत कथा (Sawan Somvar Vrat)
सावन सोमवार व्रत कथा (Sawan Somvar Vrat)

भारतीय हिन्दू कैलेंडर के अनुसार पांचवा मास श्रावण का होता है। आम बोलचाल की भाषा में इसे कई लोग सावन भी कहते हैं। यह महीना हिन्दूओं के लिए विशेष और पवित्र माना जाता है। मान्यता है कि सावन भगवान शिव का पसंदीदा मास होता ...

और पढ़ें »
गुरुवार व्रत कथा (Guruvar)
गुरुवार व्रत कथा (Guruvar)

बृहस्पतिवार के दिन विष्णु जी की पूजा होती है। यह व्रत करने से बृहस्पति देवता प्रसन्न होते हैं। स्त्रियों के लिए यह व्रत फलदायी माना गया है। अग्निपुराण के अनुसार अनुराधा नक्षत्र युक्त गुरुवार से आरंभ करके सात गुरुवार ...

और पढ़ें »
शिवरात्रि व्रत कथा (Maha Shivratri)
शिवरात्रि व्रत कथा (Maha Shivratri)

फाल्गुन मास की कृष्ण चतुर्दशी को महाशिवरात्रि (Maha Shivratri) के नाम से जाना जाता है। इस दिन उपवास सहित विधि-विधान से भगवान शिव की पूजा करने से नरक का योग मिटता है। महाशिवरात्रि के दिन व्रत कथा पढ़ने की प्रथा है। ...

और पढ़ें »
करवा चौथ व्रत कथा (Karva Chauth)
करवा चौथ व्रत कथा (Karva Chauth)

करवा चौथ के दिन व्रत कथा पढ़ना अनिवार्य माना गया है। करवा चौथ की कई कथाएं है लेकिन सबका मूल एक ही है। इस वर्ष करवा चौथ का व्रत 11 अक्टूबर,2014 को रखा जाएगा। करवा चौथ की एक प्रचलित कथा निम्न है:

करवा ...

और पढ़ें »
मंगलवार व्रत कथा (mangalvar)
मंगलवार व्रत कथा (mangalvar)

सर्वसुख, राजसम्मान तथा पुत्र-प्राप्ति के लिए मंगलवार व्रत रखना शुभ माना जाता है। 
मंगलवार व्रत कथा: एक समय की बात है एक ब्राह्मण दंपत्ति की कोई संतान नहीं थी जिस कारण वह बेहद दुखी थे। ...

और पढ़ें »
सोमवार व्रत कथा (somvar)
सोमवार व्रत कथा (somvar)

हिन्दू धर्म के अनुसार सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है। जो व्यक्ति सोमवार के दिन भगवान ...

और पढ़ें »
शरद पूर्णिमा व्रत कथा (Sharad Poornima)
शरद पूर्णिमा व्रत कथा (Sharad Poornima)

आश्विन मास की पूर्णिमा को मनाया जाने वाला त्यौहार शरद पूर्णिमा (Sharad Poornima) की कथा कुछ इस प्रकार से है- एक साहूकार के दो पुत्रियां थी। दोनों पुत्रियां पूर्णिमा का व्रत रखती थी, परन्तु ...

और पढ़ें »
शुक्रवार व्रत कथा (Shukravar)
शुक्रवार व्रत कथा (Shukravar)

शुक्रवार के दिन मां संतोषी का व्रत-पूजन किया जाता है, जिसकी कथा इस प्रकार से है- एक बुढिय़ा थी, उसके सात बेटे थे। 6 कमाने वाले थे जबकि एक निक्कमा था। बुढिय़ा छहो बेटों की रसोई बनाती, भोजन कराती और उनसे जो कुछ झूठन बचती ...

और पढ़ें »
भाई दूज कथा (bhai dooj katha)
भाई दूज कथा (bhai dooj katha)

भाई-बहन के अटूट प्रेम और स्नेह के प्रतीक का पर्व भाई दूज की कथा इस प्रकार से है- छाया भगवान सूर्यदेव की पत्नी हैं जिनकी दो संतान हुई यमराज तथा यमुना. यमुना अपने भाई यमराज से बहुत स्नेह करती ...

और पढ़ें »
रम्भा तृतीया व्रत (Rambha tritiya vrat)
रम्भा तृतीया व्रत (Rambha tritiya vrat)

रम्भा तृतीया व्रत

रम्भा तृतीया व्रत ज्येष्ठ माह में शुक्ल पक्ष के तीसरे दिन रखा जाता है। इस दिन अप्सरा रम्भा की पूजा की जाती है। इसे रम्भा तीज भी कहा जाता है।
हिन्दू मान्यतानुसार सागर ...

और पढ़ें »

Raftaar.in

<><>