gototop
raftaarLogoraftaarLogoM
Search
Menu
BG
close button


RaftaarLogo
sasas
Print PageSave as PDFSave as Image

सावन सोमवार व्रत विधिSawan Somvar

सावन सोमवार व्रत विधि (Sawan Somvar)

भगवान शिव की उपासना के लिए सोमवार, प्रदोष, शिवरात्रि और सावन आदि का समय शुभ माना जाता है। मान्यता है कि सावन (हिन्दू माह श्रावण) के महीने में भगवान शिव व सोमवार व्रत का महत्त्व और भी बढ़ जाता है। सावन के महीने में शिव भक्तों को प्रत्येक सोमवार (Sawan Somvar Vrat) को केवल रात में ही भोजन करना चाहिए और शिव जी की उपासना करनी चाहिए। श्रावण सोमवार व्रत की विधि अन्य सोमवार व्रत की तरह ही होती है।

जानें भगवान शिव से जुड़ी रहस्यमयी बातें:  About Lord Shiva in Hindi

सावन सोमवार व्रत विधि (Sawan Somvar Vrat Vidhi in Hindi)

स्कंदपुराण के अनुसार भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए सावन सोमवार के दिन एक समय भोजन करने का प्रण लेना चाहिए। भगवान भोलेनाथ के साथ पार्वती जी की पुष्प, धूप, दीप और जल से पूजा करनी चाहिए। इसके बाद भगवान शिव को तरह-तरह के नैवेद्य अर्पित करने चाहिए जैसे दूध, जल, कंद मूल आदि। सावन के प्रत्येक सोमवार को भगवान शिव को जल अवश्य अर्पित करना चाहिए।

रात्रि के समय जमीन पर सोना चाहिए। इस तरह से सावन के प्रथम सोमवार से शुरु करके कुल नौ या सोलह सोमवार इस व्रत का पालन करना चाहिए। नौवें या सोलहवें सोमवार को व्रत का उद्यापन करना चाहिए। अगर नौ या सोलह सोमवार व्रत करना संभव ना हो तो केवल सावन के चार सोमवार भी व्रत किए जा सकते हैं।

पढ़े सावन सोमवार व्रत कथा : सावन सोमवार व्रत कथा (Sawan Somvar Vrat Katha in Hindi)

विशेष: अपने भोले स्वभाव के कारण भगवान शिव का एक नाम भोलेनाथ भी है। इसी कारण भगवान शिवजी से जुड़े व्रतों में किसी कड़े नियम का वर्णन पुराणों में नहीं है। साथ ही शास्त्रों के अनुसार सावन सोमवार व्रत में तीन पहर तक उपवास रखने के बाद एक समय भोजन करना चाहिए। सिर्फ सावन सोमवार ही नहीं अन्य शिवजी से जुड़े व्रतों में भी सूर्योदय के बाद तीन पहर (9 घंटे) तक उपवास रखना चाहिए। साथ ही भगवान शिव की प्रिय वस्तुएं जैसे भांग- धतुरा आदि उनकी पूजा में अवश्य रखने का प्रयत्न करना चाहिए।

सावन सोमवार व्रत 2017 (Sawan Somvar Vrat 2017)

साल 2017 में सावन सोमवार के व्रत 10 जुलाई से शुरु होंगे और 07 अगस्त को सावन का महीना समाप्त हो जाएगा। ​

इन्हें भी पढ़े:-

शिव जी के मंत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें (Shiv Mantra in Hindi)
शिव जी की आरती पढने के लिए यहां क्लिक करें (Shiv Aarti in Hindi)
शिव जी चालीसा पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें (Shiv Chalisa in Hindi)

डाउनलोड करें शिवजी के वॉलपेपर: Shivji Wallpapers 

शिवजी के गाने: Lord Shiva Songs in Hindi

Raftaar.in

हिन्दू व्रत विधियां 2017
Vrat Vidhi 2017