gototop
raftaarLogoraftaarLogoM
Search
Menu
BG
close button


RaftaarLogo
sasas
Print PageSave as PDFSave as Image

महा शिवरात्रि व्रत विधिMaha Shivratri Vrat Vidhi

महा शिवरात्रि व्रत विधि (Maha Shivratri)

भगवान शिव की पूजा-वंदना करने के लिए प्रत्येक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि (मासिक शिवरात्रि) को व्रत रखा जाता है। लेकिन सबसे बड़ी शिवरात्रि फाल्गुन मास की कृष्ण चतुर्दशी होती है। इसे महाशिवरात्रि भी कहा जाता है। वर्ष 2017 में महाशिवरात्रि का व्रत 24 फरवरी को रखा जाएगा।

शिवरात्रि व्रत विधि (Shivratri Vrat Vidhi in Hindi)

गरुड़ पुराण के अनुसार शिवरात्रि से एक दिन पूर्व त्रयोदशी तिथि में शिव जी की पूजा करनी चाहिए और व्रत का संकल्प लेना चाहिए। इसके उपरांत चतुर्दशी तिथि को निराहार रहना चाहिए। महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव को जल चढ़ाने से विशेष पुण्य प्राप्त होता है। 

शिवरात्रि के दिन भगवान शिव की मूर्ति या शिवलिंग को पंचामृत से स्नान कराकर "ऊं नमो नम: शिवाय" मंत्र से पूजा करनी चाहिए। इसके बाद रात्रि के चारों प्रहर में शिवजी की पूजा करनी चाहिए और अगले दिन प्रात: काल ब्राह्मणों को दान-दक्षिणा देकर व्रत का पारण करना चाहिए। 

गरुड़ पुराण के अनुसार इस दिन भगवान शिव को बिल्व पत्र अर्पित करना चाहिए। भगवान शिव को बिल्व पत्र बेहद प्रिय हैं। शिवपुराण के अनुसार भगवान शिव को रुद्राक्ष, बिल्व पत्र, भांग, शिवलिंग और काशी अतिप्रिय हैं। 

इन्हें भी पढ़ेंः-

महाशिवरात्रि की व्रत कथा पढ़ने के लिए क्लिक करें: Mahashivratri Vrat Katha in Hindi
भगवान शिव के मंत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें: Lord Shiva Mantra in Hindi
शिव चालीसा पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें : Shiv Chalisa in Hindi

Raftaar.in

हिन्दू व्रत विधियां 2017
Vrat Vidhi 2017