gototop
raftaarLogoraftaarLogoM
Search
BG
close button


RaftaarLogo
sasas
Print PageSave as PDFSave as Image

दीपावलीDiwali Puja Vidhi in hindi

दीपावली (Diwali Puja)

दिवाली हिंदुओं के मुख्य त्यौहारों में से एक है। इस वर्ष दिवाली 19 अक्टूबर 2017 को मनाई जाएगी। दिवाली भगवान श्री राम के अयोध्या वापसी की खुशी में मनाई जाती है। इस दिन लक्ष्मी जी की पूजा (Diwali Puja) का विधान है।

दिवाली पूजा विधि (Diwali Puja Vidhi)

स्कंद पुराण के अनुसार कार्तिक अमावस्या के दिन प्रात: काल स्नान आदि से निवृत्त होकर सभी देवताओं की पूजा निम्न विधि (Diwali Pooja Vidhi) से करनी चाहिए। इस दिन संभव हो तो दिन में भोजन नहीं करना चाहिए। 

घर में शाम के समय पूजा घर में लक्ष्मी और गणेश जी की नई मूर्तियों को एक चौकी पर स्वस्तिक बनाकर तथा चावल रखकर स्थापित करना चाहिए। मूर्तियों के सामने एक जल से भरा हुआ कलश रखना चाहिए। इसके बाद मूर्तियों के सामने बैठकर हाथ में जल लेकर शुद्धि मंत्र का उच्चारण करते हुए उसे मूर्ति पर, परिवार के सदस्यों पर और घर में छिड़कना चाहिए। 

गुड़, फल, फूल, मिठाई, दूर्वा, चंदन, घी, पंचामृत, मेवे, खील, बताशे, चौकी, कलश, फूलों की माला आदि सामग्रियों का प्रयोग करते हुए पूरे विधि- विधान से लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा करनी चाहिए। इनके साथ- साथ देवी सरस्वती, भगवान विष्णु, काली मां और कुबेर देव की भी विधिपूर्वक पूजा करनी चाहिए। पूजा करते समय 11 छोटे दीप तथा एक बड़ा दीप जलाना चाहिए। 

सभी छोटे दीप को घर के चौखट, खिड़कियों व छतों पर जलाकर रखना चाहिए तथा बड़े दीपक को रात पर जलता हुआ घर के पूजा स्थान पर रख देना चाहिए। 

पूजा में आवश्यक साम्रगी (Important Things for Diwali Puja)

महालक्ष्मी पूजा या दिवाली  पूजा के लिए रोली, चावल, पान- सुपारी, लौंग, इलायची, धूप, कपूर, घी या तेल से भरे हुए दीपक, कलावा, नारियल, गंगाजल, गुड़, फल, फूल, मिठाई, दूर्वा, चंदन, घी, पंचामृत, मेवे, खील, बताशे, चौकी, कलश, फूलों की माला, शंख, लक्ष्मी व गणेश जी की मूर्ति, थाली, चांदी का सिक्का, 11 दिए आदि वस्तुएं पूजा के लिए एकत्र कर लेना चाहिए। 

लक्ष्मी मंत्र (Laxmi Mantra in Hindi)

लक्ष्मी जी की पूजा के समय निम्न मंत्र का लगातार उच्चारण करते रहना चाहिए: 
ऊं श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नम: ॥ 

दीपावली पूजा मुहूर्त 2017 (Deepawali Puja Muhurat 2017)
दीपावली के दिन प्रदोषकाल में माता लक्ष्मी जी की पूजा होती है। मान्यता है कि इस समय लक्ष्मी जी की पूजा करने से मनुष्य को कभी दरिद्रता का सामना नहीं करना पड़ता। इस साल पूजा का शुभ मुहूर्त (Deepawali Puja Muhurat 2017) है: 

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त (Lakshmi Puja Muhurat): शाम 07:11 से लेकर रात को 08: 16 तक
महानिशा काल पूजा मुहूर्त: रात्रि 11:40 से लेकर रात को 12:31 तक


इन्हें भी पढ़ें:-

अन्य लक्ष्मी मंत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे: Laxmi Mantra in Hindi
दीपावली पूजा की अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें: Diwali Puja in Hindi 
लक्ष्मी जी की आरती पढ़ने के लिए क्लिक करें: Laxmi Ji ki Aarti in Hindi

Raftaar.in

हिन्दू व्रत विधियां 2017
Vrat Vidhi 2017