gototop
raftaarLogoraftaarLogoM
Search
Menu
BG
close button

हिन्दू व्रत विधियां 2017
Vrat Vidhi 2017

होली पूजा विधि (Holi Puja)

होली पूजा विधि (Holi Puja)

रंगों के त्यौहार होली के दिन लोग एक-दूसरे को रंग-गुलाल लगाते हैं और खुशी मनाते हैं। संपूर्ण भारतवर्ष में यह त्यौहार हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है लेकिन ब्रज और मथुरा जैसे क्षेत्रों में इसकी छठा अनुपम होती है। ...

और पढ़ें »
दीपावली (Diwali Puja)

दीपावली (Diwali Puja)

दिवाली हिंदुओं के मुख्य त्यौहारों में से एक है। इस वर्ष दिवाली 19 अक्टूबर 2017 को मनाई जाएगी। दिवाली भगवान श्री राम के अयोध्या वापसी की खुशी में मनाई जाती है। इस दिन लक्ष्मी जी की पूजा (Diwali ...

और पढ़ें »
सोमवार व्रत विधि (Somvar)

सोमवार व्रत विधि (Somvar)

सोमवार व्रत भगवान शिव को समर्पित है। त्रिदेवों में एक माने जाने वाले भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए हिन्दू धर्म में सोमवार व्रत का विधान है। माना जाता है कि सोलह सोमवार का व्रत पूरे विधि- विधान के साथ करने से मन की ...

और पढ़ें »
बुधवार व्रत विधि (Budhvar)

बुधवार व्रत विधि (Budhvar)

बुधवार का व्रत बुध ग्रह को शांत करने के लिए विशेष फलदायी माना जाता है। ज्ञान, कार्य, बुद्धि, व्यापार आदि में प्रगति के लिए बुधवार व्रत बेहद शुभ और फलदायी माना जाता है। बुधवार के दिन कई जगह बुद्ध देव के साथ भगवान गणेश ...

और पढ़ें »
गुरुवार व्रत विधि (Brihaspati)

गुरुवार व्रत विधि (Brihaspati)

हिन्दू धर्म में गुरुवार का व्रत बड़ा ही फलदायी माना जाता है। गुरुवार के दिन जगतपालक श्री हरि विष्णुजी की पूजा का विधान है। कई लोग बृहस्पतिदेव और केले के पेड़ की भी पूजा करते हैं। बृहस्पतिदेव को बुद्धि का कारक माना ...

और पढ़ें »
शनिवार व्रत विधि (Shanivar)

शनिवार व्रत विधि (Shanivar)

हिन्दू धर्म में शनि एवं राहु ग्रह की शांति के लिए शनिवार का व्रत विशेष माना जाता है। अग्नि पुराण के अनुसार मूल नक्षत्र युक्त शनिवार से आरंभ करके सात लगातार शनिवार व्रत करने वाले जातक को शनि ग्रह की पीड़ा से मुक्ति ...

और पढ़ें »
श्री कृष्ण जन्माष्टमी (Shri Krishna Janmashtami)

श्री कृष्ण जन्माष्टमी (Shri Krishna Janmashtami)

माधव, केशव, कान्हा, कन्हैया जैसे नामों से पुकारे जाने वाले भगवान श्रीकृष्ण का जन्म दिन "जन्माष्टमी" के रूप में मनाया जाता है। भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को भगवान श्रीकृष्ण की जयंती मनाई जाती ...

और पढ़ें »
संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत विधि (Sankashti Ganesh Chaturthi)

संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत विधि (Sankashti Ganesh Chaturthi)

हिन्दू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को "संकष्टी चतुर्थी" के नाम से जाना जाता है।

संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत विधि (Sankashti Ganesh Chaturthi Vrat Vidhi in ...

और पढ़ें »
शनि अमावस्या पूजा विधि (Shani Amavasya)

शनि अमावस्या पूजा विधि (Shani Amavasya)

हिन्दू धर्म में अमावस्या तिथि को दान-पुण्य और पूजा आदि के लिए शुभ माना जाता है। अगर यह अमावस्या शनिवार को पड़े तो इसे और भी शुभ माना जाता है। शनिवार के दिन पड़ने वाली अमावस्या को शनि अमावस्या (Shani Amavasya) कहते हैं। ...

और पढ़ें »
कार्तिक पूर्णिमा व्रत विधि (Kartik Poornima)

कार्तिक पूर्णिमा व्रत विधि (Kartik Poornima)

पूर्णिमा तिथि को हिन्दू धर्म में अत्यंत शुभ और फलदायी बताया गया है। भविष्यपुराण के अनुसार वैशाख, माघ और कार्तिक माह की पूर्णिमा स्नान-दान के लिए अति श्रेष्ठ होती हैं।

कार्तिक पूर्णिमा 2016 (Kartik ...

और पढ़ें »
हनुमान जयंती (Hanuman Jayanti)

हनुमान जयंती (Hanuman Jayanti)

हनुमान जी को शिवजी का ग्यारहवां अवतार माना जाता है। हिन्दू मान्यतानुसार रुद्रावतार भगवान हनुमान माता अंजनी और वानर ...

और पढ़ें »
एकादशी व्रत विधि (Ekadashi vrat vidhi)

एकादशी व्रत विधि (Ekadashi vrat vidhi)

हिन्दू धर्मानुसार प्रत्येक महीने की एकादशी तिथि को भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। इस दिन एकादशी व्रत किया जाता है। वैष्णव समाज और हिन्दू धर्म के लिए एकादशी व्रत महत्वपूर्ण और पुण्यकारी माना जाता ...

और पढ़ें »
पुत्रदा एकादशी व्रत विधि (Putrada Ekadashi)

पुत्रदा एकादशी व्रत विधि (Putrada Ekadashi)

पद्म पुराण के अनुसार सांसारिक सुखों की प्राप्ति और पुत्र इच्छुक भक्तों के लिए पुत्रदा एकादशी व्रत को फलदायक माना जाता है। यह व्रत पौष और श्रावण माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को किया जाता है। संतानहीन या पुत्र हीन जातको ...

और पढ़ें »
मोक्षदा एकादशी व्रत (Mokshada Ekadashi)

मोक्षदा एकादशी व्रत (Mokshada Ekadashi)

हिन्दू धर्म में मोक्ष को महत्त्वपूर्ण माना गया है। मान्यता है कि मोक्ष प्राप्त किए बिना मनुष्य को बार-बार इस संसार में आना पड़ता है। पद्म पुराण में मोक्ष की चाह रखने वाले प्राणियों के लिए "मोक्षदा एकादशी ...

और पढ़ें »
उत्पन्ना एकादशी व्रत विधि (Utpanna Ekadashi)

उत्पन्ना एकादशी व्रत विधि (Utpanna Ekadashi)

मार्गशीर्ष मास की कृष्ण पक्ष की एकादशी को "उत्पन्ना एकादशी व्रत" किया जाता है। इस व्रत के प्रभाव से मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति होती है। मार्गशीर्ष मास की कृष्ण एकादशी के दिन देवी एकादशी का जन्म हुआ था, ...

और पढ़ें »
निर्जला एकादशी व्रत (Nirjala Ekadashi)

निर्जला एकादशी व्रत (Nirjala Ekadashi)

साल की सभी एकादशीयों में निर्जला एकादशी बहुत ही महत्त्वपूर्ण मानी जाती है। पद्म पुराण के अनुसार ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी (Nirjala Ekadashi vrat) कहा जाता है। इसे ...

और पढ़ें »
कामदा एकादशी व्रत विधि (Kamada Ekadashi)

कामदा एकादशी व्रत विधि (Kamada Ekadashi)

हिन्दू धर्म में एकादशी व्रत का बहुत ही बड़ा महत्त्व है। चैत्र मास की शुक्ल एकादशी को कामदा एकादशी कहा जाता है। पद्म पुराण के अनुसार कामदा एकादशी के दिन भगवान विष्णु का पूजन किया जाता है। कामदा एकादशी व्रत (Kamada ...

और पढ़ें »
वरुथिनी एकादशी व्रत विधि (Varuthini Ekadashi)

वरुथिनी एकादशी व्रत विधि (Varuthini Ekadashi)

हिन्दू धर्म शास्त्रों में हर एक एकादशी का एक विशेष महत्त्व बताया गया है। इसी क्रम में वरुथिनी एकादशी को वरुथिनी ग्यारस नाम से भी जाना जाता है। पद्म पुराण के अनुसार वैशाख कृष्ण पक्ष की एकादशी को वरुथिनी एकादशी ...

और पढ़ें »
जया एकादशी व्रत विधि (jaya ekadashi)

जया एकादशी व्रत विधि (jaya ekadashi)

हिन्दू धर्म में एकादशी व्रत को बहुत ही पुण्य माना जाता है, क्योंकि इसके प्रभाव से मनुष्य के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं। पद्म पुराण के अनुसार माघ माह की शुक्ल एकादशी को जया एकादशी कहा जाता है। इस दिन भगवान विष्णु का ...

और पढ़ें »
कालाष्टमी व्रत (Kalaashtami)

कालाष्टमी व्रत (Kalaashtami)

कालाष्टमी का त्यौहार हर माह की कृष्णपक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन कालभैरव की पूजा की जाती है जिन्हें शिवजी का एक अवतार माना जाता है। इसे कालाष्टमी, भैरवाष्टमी आदि नामों से जाना जाता ...

और पढ़ें »
अमावस्या व्रत (Amavsaya)

अमावस्या व्रत (Amavsaya)

हिन्दू धर्मानुसार अमावस्या के दिन चंद्रमा की पूजा की जाती है। भविष्यपुराण के अनुसार अमावस्या का दिन पितरों को अत्यधिक प्रिय होता है।

अमावस्या व्रत विधि (Amavsaya Vrat Vidhi in ...

और पढ़ें »
वट सावित्री व्रत विधि (Vat Savitri Vrat Vidhi)

वट सावित्री व्रत विधि (Vat Savitri Vrat Vidhi)

हिन्दू धर्म में वट सावित्री व्रत को करवा चौथ के समान ही माना जाता है। स्कन्द व भविष्य पुराण के अनुसार वट सावित्री व्रत ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को किया जाता है, लेकिन निर्णयामृतादि के अनुसार यह व्रत ज्येष्ठ मास ...

और पढ़ें »
कजरी तीज (Kajaree Teej)

कजरी तीज (Kajaree Teej)

कजरी तीज का त्यौहार भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की तृतीया को मनाया जाता है। इसे 'हरितालिका तीज' के नाम से जाना जाता है। कजरी तीज में विशेष प्रकार का खेल, गान और शिव-पार्वती जी की पूजा की व्यवस्था की जाती है। ...

और पढ़ें »
ऋषि पंचमी व्रत (Rishi Panchmi)

ऋषि पंचमी व्रत (Rishi Panchmi)

ऋषि पंचमी का त्यौहार भाद्रपद शुक्ल माह की पंचमी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन महिलाएं सप्त ऋषियों की पूजा करती हैं। ऋषि पंचमी के दिन महिलाएं ऋषियों की पूजा कर उनसे धन-धान्य, समृद्धि, संतान प्राप्ति तथा सुख-शांति की ...

और पढ़ें »
गोवर्धन-पूजा (Goverdhan Puja)

गोवर्धन-पूजा (Goverdhan Puja)

हिन्दू धर्मानुसार कार्तिक महीना बेहद शुभ माना जाता है। इस महीने का एक अहम त्यौहार है गोवर्धन -पूजा। गोवर्धन पूजा को कई लोग अन्नकूट के नाम से भी जानते हैं। इस दिन भगवान श्रीकृष्ण, गोवर्धन पर्वत और गाय माता की पूजा की ...

और पढ़ें »
मंगला गौरी व्रत (Mangla gouri)

मंगला गौरी व्रत (Mangla gouri)

मंगला गौरी व्रत हिन्दुओं का त्यौहार है। श्रावण मास के प्रत्येक मंगलवार को मंगला गौरी व्रत (Mangla Gauri Vrat) किया जाता है। भविष्यपुराण और नारदपुराण में इस व्रत का जिक्र किया गया है।  इस दिन देवी पार्वती की पूजा ...

और पढ़ें »
कालभैरव अष्टमी (Kaal Bhairovastami)

कालभैरव अष्टमी (Kaal Bhairovastami)

मार्गशीर्ष महीने की कृष्ण पक्ष के आठवें दिन कालभैरव अष्टमी का व्रत रखा जाता है। शिवपुराण के अनुसार इसी दिन भगवान शिव ने कालभैरव के रूप में अवतार लिया था। इन्हें काशी का कोतवाल माना जाता है। कालभैरव अष्टमी व्रत भय और ...

और पढ़ें »
मनोरथ पूर्णिमा व्रत (Manorath Purnima)

मनोरथ पूर्णिमा व्रत (Manorath Purnima)

मनोरथ पूर्णिमा का व्रत फाल्गुन की पूर्णिमा से पूरे एक वर्ष तक किया जाता है। अपने नाम की ही तरह यह व्रत व्यक्ति के सभी मनोरथ पूर्ण करने वाला माना गया है। इस दिन देवी लक्ष्मी सहित भगवान विष्णु के जनार्दन रूप की पूजा की ...

और पढ़ें »
अरण्य द्वादशी व्रत (Aranya Duvadashi)

अरण्य द्वादशी व्रत (Aranya Duvadashi)

अरण्य द्वादशी व्रत मार्गशीर्ष मास की शुक्ल एकादशी को रखा जाता है। इस दिन भगवान विष्णु की जनार्दन रूप में पूजा करने का विशेष विधान है। भविष्यपुराण के अनुसार स्वयं सीता जी ने इस व्रत को श्रीराम के कहने पर वनवास के ...

और पढ़ें »
सूर्यषष्ठी व्रत (Surya sasthi)

सूर्यषष्ठी व्रत (Surya sasthi)

सूर्यषष्ठी व्रत हर माह के कृष्ण पक्ष की छठी तिथि को रखा जाता है। इस दिन विशेष रूप से सूर्य देव की पूजा की जाती है। भविष्यपुराण के अनुसार यह व्रत भगवान सूर्य को अति प्रिय है, इसलिए इस दिन विधिपूर्वक पूजा करने से वे ...

और पढ़ें »
कमला एकादशी व्रत (Kamala Ekadashi)

कमला एकादशी व्रत (Kamala Ekadashi)

पद्म पुराण के अनुसार पुरुषोत्तम मास यानि अधिक मास में कमला एकादशी  किया जाता है। वैसे तो एकादशी व्रतों की संख्या 24 है, लेकिन मलमास या अधिक मास होने के कारण इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है। कमला एकादशी व्रत अधिक ...

और पढ़ें »
देवशयनी एकादशी व्रत (Devshayani ekadashi)

देवशयनी एकादशी व्रत (Devshayani ekadashi)

पद्म पुराण के अनुसार आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को 'देवशयनी' एकादशी कहा जाता है। देवशयनी या देवदेवशयनी एकादशी से चातुर्मास की शुरूआत मानी जाती है। मान्यता है कि इस दिन से भगवान विष्णु सोने चले जाते हैं ...

और पढ़ें »
सौभाग्य सुंदरी तीज व्रत (Shobhagya Sundhari Teej)

सौभाग्य सुंदरी तीज व्रत (Shobhagya Sundhari Teej)

सौभाग्य सुंदरी तीज व्रत के दिन सभी सुहागन स्त्रियां अपने पति की लंबी आयु के लिए बिना अन्न और जल के व्रत रखती हैं। माना जाता है कि यह व्रत संतान प्राप्ति के लिए भी शुभ फलदायी होता है। इस दिन शिव और पार्वती जी की ...

और पढ़ें »
स्वर्ण गौरी व्रत (Swarn Gouri)

स्वर्ण गौरी व्रत (Swarn Gouri)

स्वर्ण गौरी व्रत श्रावण मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया को रखा जाता है। इस दिन सुहागन स्त्रियों को देवी भवानी की पूजा करनी चाहिए। इस व्रत की महिमा से स्त्रियों को अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

2016 ...

और पढ़ें »
नेत्र व्रत (Netra Vrat)

नेत्र व्रत (Netra Vrat)

नेत्र व्रत चैत्र शुक्ल पक्ष की द्वितीय को रखा जाता है। नारद पुराण के अनुसार इस व्रत के पुण्य से व्यक्ति को ब्रह्मलोक प्राप्त होता है। इस दिन बाल चंद्रमा और भगवान ब्रह्मा की पूजा करने का विधान ...

और पढ़ें »
धन व्रत (Dhan Vrat)

धन व्रत (Dhan Vrat)

धन व्रत मार्ग शीर्ष की शुक्ल पक्ष प्रतिपदा को रखा जाता है। इस व्रत को परम उत्तम व्रत माना जाता है। इस रात के समय भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। इसकी महिमा से व्यक्ति को धन की कभी कमी नहीं होती ...

और पढ़ें »
अशोक व्रत (Ashok Vrat)

अशोक व्रत (Ashok Vrat)

अशोक व्रत आश्विन माह की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को रखा जाता है। इस व्रत को शोक रहित तथा धन-संपदा से सम्पन्न करने वाला माना गया है। अशोक व्रत में अशोक वृक्ष की पूजा की जाती है। इस माह से ही नवरात्र व्रत का भी आरंभ होता ...

और पढ़ें »
सावन सोमवार व्रत विधि (Sawan Somvar)

सावन सोमवार व्रत विधि (Sawan Somvar)

भगवान शिव की उपासना के लिए सोमवार, प्रदोष, शिवरात्रि और सावन आदि का समय शुभ माना जाता है। मान्यता है कि सावन (हिन्दू माह श्रावण) के महीने में भगवान शिव व सोमवार व्रत का महत्त्व और भी बढ़ जाता है। सावन के महीने में शिव ...

और पढ़ें »
उमामहेश्र्वर व्रत (Uma Maheshwar)

उमामहेश्र्वर व्रत (Uma Maheshwar)

भाद्रपद मास की पूर्णिमा को उमामहेश्र्वर नामक व्रत रखा जाता है। इस दिन भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा की जाती है। इसे श्रेष्ठ व्रतों में से एक माना जाता है। इसी दिन शक्र नामक व्रत भी किया जाता ...

और पढ़ें »
श्रावण पूर्णिमा व्रत (Shravan Purnima)

श्रावण पूर्णिमा व्रत (Shravan Purnima)

पूर्णिमा का व्रत हर माह में रखा जाता है। श्रावण पूर्णिमा व्रत के दिन "वेदों का उपाकर्म" बताया गया है। इस दिन सप्त ऋषियों की पूजा करने का विधान है। यह व्रत वैदिक कार्यों को पूर्ण करने वाला माना जाता ...

और पढ़ें »
वैशाख पूर्णिमा व्रत (Vaishakh Purnima)

वैशाख पूर्णिमा व्रत (Vaishakh Purnima)

वैशाख माह की पूर्णिमा (Vaishakh Purnima Vrat 2017) के दिन धर्मराज व्रत रखा जाता है। नारद पुराण के अनुसार इस दिन व्रती जितने द्रव्य ब्राह्मण को दान करता है उसको उतने ही शुभ फल प्राप्त होते हैं। ...

और पढ़ें »
मांगलिक दोष पूजा विधि (Mangalik Dosh Puja)

मांगलिक दोष पूजा विधि (Mangalik Dosh Puja)

जब कुण्डली के पहले, चौथे, सातवें, आठवें या बारहवें भाव में मंगल होता है तो उसे मांगलिक दोष कहा जाता है। जिन लोगों को मंगल दोष होता है उनके विवाह में बहुत सी परेशानियां आती हैं। ऐसी मान्यता है कि मंगल दोष जिनकी ...

और पढ़ें »
फाल्गुन पूर्णिमा व्रत (Falgun Purnima Vrat)

फाल्गुन पूर्णिमा व्रत (Falgun Purnima Vrat)

पूर्णिमा व्रत हर माह को रखा जाता है। पूर्णिमा के दिन सूर्य उदय से लेकर चांद के दिखाई देने तक उपवास रखा जाता है। हर माह की पूर्णिमा को अलग -अलग विधियों द्वारा भगवान की पूजा की जाती हैं। इस दिन काम देव का दाह किया जाता ...

और पढ़ें »
मार्ग शीर्ष पूर्णिमा व्रत (Margh Shirsh Purnima Vrat)

मार्ग शीर्ष पूर्णिमा व्रत (Margh Shirsh Purnima Vrat)

पूर्णिमा व्रत हर मास में रखा जाता है। प्रत्येक मास में व्रत की विधियां अलग- अलग होती हैं। मार्ग शीर्ष पूर्णिमा व्रत (Margashirsha Purnima Vrat) सभी कामनाओं की सिद्धि करने वाला माना जाता है।

और पढ़ें »
स्कन्द व्रत (Skand Vrat)

स्कन्द व्रत (Skand Vrat)

स्कन्द व्रत आषाढ़ माह की शुक्ल पक्ष की षष्ठी को मनाया जाता है। इस दिन भगवान शिव और देवी पार्वती के पुत्र कार्तिकेय की स्कन्द रूप में पूजा करने का विशेष विधान है। यह व्रत पुत्र- पौत्र प्राप्ति के लिए अति फलदायी माना ...

और पढ़ें »
जया व्रत (Jaya Vrat)

जया व्रत (Jaya Vrat)

जया व्रत कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी को रखा जाता है। इस दिन विशेष रूप से जया देवी की पूजा की जाती है। जया व्रत मनुष्य के सभी पापों का नाश करने वाला माना जाता है।

2016 में जया व्रत की तिथि ...

और पढ़ें »
अन्न व्रत (Anna Vrat)

अन्न व्रत (Anna Vrat)

अन्न व्रत श्रावण माह के कृष्ण पक्ष की पंचमी को रखा जाता है। इस दिन विधिपूर्वक देवताओं, ऋषियों तथा पितरों की पूजा की जाती है। अन्न व्रत को सम्पूर्ण अन्न और संपत्तियों का उत्पादक माना जाता है।

2016 ...

और पढ़ें »
शुभाशुभ- निदर्शन व्रत (Shubha Ashubh Nidarshan Vrat)

शुभाशुभ- निदर्शन व्रत (Shubha Ashubh Nidarshan Vrat)

शुभाशुभ- निदर्शन व्रत आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी को रखा जाता है। शुभाशुभ- निदर्शन में विशेष रूप से लोकपाल तथा भगवान शिव की पूजा की जाती है। यह व्रत सौभाग्य फलदायी माना जाता है।

2016 शुभाशुभ- ...

और पढ़ें »
ढुण्ढिराज व्रत (Dhundhiraaj Vrat)

ढुण्ढिराज व्रत (Dhundhiraaj Vrat)

फाल्गुन मास की चतुर्थी को ढुण्ढिराज व्रत रखा जाता है। यह व्रत बहुत मंगलकारी माना जाता है। इस दिन भगवान श्रीगणेश की विशेष पूजा अर्चना की जाती है। ढुण्ढिराज व्रत मनुष्य की सुख -सम्पदा को बढ़ाने वाला माना जाता ...

और पढ़ें »
वैभव लक्ष्मी पूजा विधि (Vaibhav Laxmi)

वैभव लक्ष्मी पूजा विधि (Vaibhav Laxmi)

वैभव लक्ष्मी व्रत शुक्रवार के दिन रखा जाता है। मान्यता है कि वैभव लक्ष्मी व्रत अतिशीघ्र फल प्रदान करता है। इस दिन विशेष रूप से धन और वैभव की देवी, लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है। इस दिन माता लक्ष्मी जी की पूजा में लाल ...

और पढ़ें »
कुबेर पूजा विधि (Kuber)

कुबेर पूजा विधि (Kuber)

कुबेर हिन्दू धर्म के एक देवता हैं। इन्हें देवताओं का कोषाध्यक्ष माना जाता है। वाराह पुराण के अनुसार पहले जन्म में कुबेर दे गुणनिधि नाम के एक वेदज्ञ ब्राह्मण थे। माना जाता है कि लक्ष्मी जी की पूजा के साथ दिवाली पर ...

और पढ़ें »
नवरात्र कलश स्थापना विधि (Kalash Sthapana)

नवरात्र कलश स्थापना विधि (Kalash Sthapana)

 नवरात्र हिन्दुओं का एक पावन पर्व है। नवरात्र की पूजा नौ दिनों तक चलती हैं। इन नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्र के आरंभ में प्रतिपदा तिथि को कलश या घट की स्थापना की जाती है। कलश को ...

और पढ़ें »
इन्दिरा एकादशी व्रत (Indira Ekadashi)

इन्दिरा एकादशी व्रत (Indira Ekadashi)

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को इन्दिरा एकादशी कहा जाता है। इस शुभ दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। इन्दिरा एकादशी व्रत सभी प्रकार के कष्टों को दूर करता है।


और पढ़ें »
पद्मा एकादशी व्रत (Padma Ekadashi)

पद्मा एकादशी व्रत (Padma Ekadashi)

हिन्दू धर्म ग्रंथों के अनुसार भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पद्मा एकादशी या परिवर्तिनी एकादशी (Padma Ekadashi) कहा जाता है। मान्यता है कि इस दिन आषाढ़ मास से शेष शैय्या पर सोए भगवान विष्णुजी करवट बदलते ...

और पढ़ें »
कैसे करें ऑफिस में दीपावली की पूजा (Diwali puja at office)

कैसे करें ऑफिस में दीपावली की पूजा (Diwali puja at office)

दीपावली हिंदुओं का बहुत ही विशेष पर्व है। इस दिन विशेष रूप से देवी लक्ष्मी तथा

और पढ़ें »
मकर संक्रांति व्रत विधि (Makar Sankranti)

मकर संक्रांति व्रत विधि (Makar Sankranti)

हिन्दू धर्म के अनुसार सूर्य का मकर राशि में प्रवेश करना "मकर-संक्रांति" (Makar Sankranti) कहलाता है। मकर-संक्रांति के दिन सूर्य उत्तरायण हो जाते हैं। इस दिन व्रत और दान (विशेषकर तिल के ...

और पढ़ें »
शुक्रवार व्रत (Shukarvar Vrat)

शुक्रवार व्रत (Shukarvar Vrat)

हिन्दू धर्मानुसार शुक्रवार के दिन व्रत करना बेहद लाभकारी माना जाता है। इस दिन संतोषी माता का व्रत किया जाता है। साथ ही इस दिन कई श्रद्धालु शुक्र ग्रह की भी पूजा करते हैं।

शुक्रवार व्रत विधि ...

और पढ़ें »
बुधाष्टमी व्रत (Budhaastami)

बुधाष्टमी व्रत (Budhaastami)

शुक्ल पक्ष की अष्टमी यदि बुधवार को पड़े तो उसे बुधाष्टमी कहा जाता है। मान्यता है कि इस व्रत को करने वाले जातकों को मोक्ष प्राप्त होता है। भविष्य पुराण के अनुसार इस व्रत की महिमा से व्यक्ति के सारे पाप नष्ट हो जाते ...

और पढ़ें »
दुर्वाष्टमी व्रत (Durvaastami)

दुर्वाष्टमी व्रत (Durvaastami)

दुर्वाष्टमी व्रत भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की अष्टमी को रखा जाता है। संतान प्राप्ति और वंश वृद्धि के लिए इस व्रत को बेहद महत्त्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन दूर्वा (एक प्रकार की घास) की पूजा करने का विधान ...

और पढ़ें »
पापाकुंशा एकादशी व्रत (Papakunsha Ekadashi)

पापाकुंशा एकादशी व्रत (Papakunsha Ekadashi)

हिन्दू धर्म ग्रंथों के अनुसार आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पापाकुंशा एकादशी कहा जाता है। इस शुभ दिन भगवान विष्णु और उनके अवतारों की पूजा की जाती है तथा पालकी में मूर्तियों को स्थापित कर शोभा यात्रा निकाली ...

और पढ़ें »
अक्षय नवमी व्रत (Akhsay navami)

अक्षय नवमी व्रत (Akhsay navami)

अक्षय नवमी का व्रत कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की नवमी को रखा जाता है। पद्म पुराण के अनुसार के अनुसार इस दिन द्वापर युग का आरंभ हुआ था। इस दिन विशेषकर आंवले के वृक्ष की पूजा की जाती है, इसलिए इसे आंवला नवमी भी कहा जाता ...

और पढ़ें »
सत्यनारायण व्रत (Satya narayan)

सत्यनारायण व्रत (Satya narayan)

सत्यनारायण व्रत हिन्दू धर्म से सबसे श्रेष्ठ फलदायी व्रतों में से एक माना जाता है। इस व्रत की महिमा से व्यक्ति को सभी अभीष्ट वस्तुओं की प्राप्ति होती है। इस दिन भगवान विष्णु की नारायण रूप में आराधना की जाती है। इस ...

और पढ़ें »
उमा-महेश्वर व्रत (Umamaheswar)

उमा-महेश्वर व्रत (Umamaheswar)

भविष्यपुराण के अनुसार उमा महेश्वर व्रत मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को रखा जाता है लेकिन नारदपुराण के अनुसार भाद्रपद की पूर्णिमा के दिन उमा महेश्वर व्रत मनाया जाता है। उमा महेश्वर व्रत स्त्रियों के लिए ...

और पढ़ें »
ललिताषष्ठी व्रत (Lalitaastami)

ललिताषष्ठी व्रत (Lalitaastami)

ललिताषष्ठी व्रत भद्रपद महीने की शुक्ल पक्ष की षष्ठी को रखा जाता है। साल 2017 में यह व्रत 25 सितंबर को मनाया जाएगा। यह व्रत उन स्त्रियों के लिए बहुत शुभ होता है जिन्हें सौभाग्य और संतान की कामना होती है। इस दिन विशेष ...

और पढ़ें »
योगिनी एकादशी व्रत (Yogini Ekadashi)

योगिनी एकादशी व्रत (Yogini Ekadashi)

हिन्दू पंचांग के अनुसार आषाढ़ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को योगिनी एकादशी कहा जाता है। इस शुभ दिन पर भगवान विष्णु और ...

और पढ़ें »
रमा एकादशी व्रत (Rama Ekadashi)

रमा एकादशी व्रत (Rama Ekadashi)

हिन्दू धर्म ग्रंथों के अनुसार कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को रमा एकादशी कहा जाता है। रमा एकादशी (Rama Ekadashi) के दिन भगवान विष्णु का विशेष विधि से पूजन किया जाता है। यह व्रत देवी लक्ष्मी के नाम (रमा) से ...

और पढ़ें »
श्री पंचमी व्रत (Shri Panchami)

श्री पंचमी व्रत (Shri Panchami)

श्री पंचमी का व्रत चैत्र महीने की शुक्ल पक्ष के पांचवें दिन रखा जाता है। इस दिन माता लक्ष्मी की विशेष पूजा की जाती है। भविष्यपुराण के अनुसार यह व्रत लक्ष्मी प्राप्ति के लिए किया जाता है।

2016 में ...

और पढ़ें »
रोटक व्रत (Roatak Vrat)

रोटक व्रत (Roatak Vrat)

रोटक व्रत श्रावण महीने की शुक्ल प्रतिपदा को रखा जाता है। नारद पुराण के अनुसार श्रवण महीने के पहले सोमवार से लेकर करीब साढ़े तीन महीने तक यह व्रत किया जाता है। इस व्रत में विशेष रूप से भगवान शिव की सोमेश्वर नाम से ...

और पढ़ें »
एकभुक्त व्रत (Ekbhukt Vrat)

एकभुक्त व्रत (Ekbhukt Vrat)

एकभुक्त व्रत पौष माह शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को रखा जाता है। इस व्रत को बड़ा प्रभावशाली माना जाता है। इस दिन भगवान सूर्य की पूजा करने का विधान है। इस व्रत में व्रती को ब्रह्मचर्य का पालन करना ...

और पढ़ें »
महत्तम व्रत (Mahttam Vrat)

महत्तम व्रत (Mahttam Vrat)

महत्तम व्रत भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को रखा जाता है। इसे कुछ लोग मौन व्रत के नाम से भी जानते हैं। महत्तम व्रत में मौन रहकर भगवान शिव की पूजा करने का विधान है।

2016 में भाद्रपद की प्रतिपदा ...

और पढ़ें »
सौरि व्रत (Souri  Pratipada Vrat)

सौरि व्रत (Souri Pratipada Vrat)

चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को सौरि व्रत रखा जाता है। नारद पुराण के अनुसार इस दिन ही ब्रह्माजी ने सम्पूर्ण सृष्टि की रचना की थी। इसलिए अमावस्या के बाद जो प्रतिपदा तिथि प्राप्त होती है, उस दिन किए गए व्रत ...

और पढ़ें »
चैत्र पूर्णिमा व्रत (Chaitra Purnima)

चैत्र पूर्णिमा व्रत (Chaitra Purnima)

पूर्णिमा का व्रत हर माह में रखा जाता है। चैत्र माह की पूर्णिमा को व्रत रखना बेहद शुभ माना जाता है। इस दिन उपवास रखने तथा चंद्र देव अर्थात चंद्रमा की पूजा करने का विधान है।

चैत्र पूर्णिमा व्रत 2017 ...

और पढ़ें »
कार्तिक पूर्णिमा व्रत (Kartik Purnima Vrat)

कार्तिक पूर्णिमा व्रत (Kartik Purnima Vrat)

कार्तिक मास की पूर्णिमा के दिन वृषोसर्ग व्रत रखा जाता है। इस दिन विशेष रूप से भगवान कार्तिकेय और भगवान विष्णु की पूजा करने का विधान हैं। यह व्रत शत्रुओं का नाश करने वाला माना जाता है। इसे नक्त व्रत भी कहा जाता ...

और पढ़ें »
कोजागर पूर्णिमा व्रत (Kojagiri Purnima)

कोजागर पूर्णिमा व्रत (Kojagiri Purnima)

आश्विन मास की पूर्णिमा को कोजागर व्रत (Kojagiri Purnima Vrat) रखा जाता है। इस दिन विशेष रूप से देवी लक्ष्मी की पूजा करने का विधान है। यह व्रत लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने वाला माना जाता है।

कोजागर ...

और पढ़ें »
आषाढ़ पूर्णिमा व्रत (गोपद्म व्रत) (Ashadha Purnima (Gopad Vrat))

आषाढ़ पूर्णिमा व्रत (गोपद्म व्रत) (Ashadha Purnima (Gopad Vrat))

आषाढ़ महीने की पूर्णिमा को "गोपद्म व्रत" रखा जाता है। इस दिन भगवान विष्णु की विशेष रूप से पूजा की जाती है। गोपद्म व्रत सभी सुखों को प्रदान करने वाला माना जाता है।

आषाढ़ पूर्णिमा व गोपद्म ...

और पढ़ें »
श्री संतान गोपाल पूजा विधि (Shri Santan Gopal Puja)

श्री संतान गोपाल पूजा विधि (Shri Santan Gopal Puja)

ज्योतिष शास्त्र विभिन्न प्रकार के कष्टों और दोषों को दूर करने के लिए विभिन्न प्रकार के उपाय, पूजा विधि और मंत्रों को जाप करने का सुझाव देता हैं। जिसके प्रयोग से जातक अपने जीवन के कष्टों को दूर करने का प्रयास करते ...

और पढ़ें »
गणेश पूजा विधि (चतुर्थी) (Ganesh chaturthi puja)

गणेश पूजा विधि (चतुर्थी) (Ganesh chaturthi puja)

हिंदू धर्म में गणेश भगवान को प्रथम पूजनीय माना जाता है। किसी भी शुभ-कार्य जैसे विवाह, ग्रह प्रवेश, भूमि पूजन आदि में सबसे पहले गणेश जी की पूजा कर उन्हें शांत कर लिया जाता है। मान्यता है कि गणेश पूजन के फलस्वरूप ...

और पढ़ें »
ब्रह्मसावित्री व्रत (Brahmasavitri Vrat)

ब्रह्मसावित्री व्रत (Brahmasavitri Vrat)

आमवस्या का व्रत हर महीने में रखा जाता है। ज्येष्ठ महीने में पड़ने वाली अमावस्या के व्रत को ब्रह्मसावित्री व्रत के नाम से जाना जाता है। ब्रह्मसावित्री व्रत की पूजा विधि भी ज्येष्ठ पूर्णिमा को पड़ने वाले वट सावित्री ...

और पढ़ें »
माघ पूर्णिमा व्रत (Magh Purnima Vrat)

माघ पूर्णिमा व्रत (Magh Purnima Vrat)

पूर्णिमा का व्रत हर महीने रखा जाता है। इस दिन आकाश में चांद अपने पूर्ण रूप में दिखाई देता हैं। हर पूर्णिमा व्रत की महिमा और विधियां भिन्न होती हैं। माघ पूर्णिमा व्रत कई श्रेष्ठ यज्ञों का फल देने वाला माना जाता ...

और पढ़ें »
कुमार व्रत (Kumar Vrat)

कुमार व्रत (Kumar Vrat)

कुमार व्रत चैत्र माह की शुक्ल पक्ष की षष्ठी को रखा जाता है। इन दिन विशेष रूप से भगवान षडानन की पूजा की जाती है। यह व्रत उन स्त्रियों के लिए विशेष फलदायी माना जाता है जिन्हें पुत्र की कामना हो।

2016 ...

और पढ़ें »
उपांगललिता व्रत (Upanglalita Vrat)

उपांगललिता व्रत (Upanglalita Vrat)

उपांगललिता व्रत अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी को रखा जाता है। इस दिन विशेष रूप से ललिता देवी की स्वर्णिम प्रतिमा बनाकर उसकी पूजा की जाती है। उपांगललिता व्रत उत्तम फलदायी व्रत माना जाता ...

और पढ़ें »
सती व्रत (Sati Vrat)

सती व्रत (Sati Vrat)

सती व्रत ज्येष्ठ मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को रखा जाता है। यह व्रत परम उत्तम व्रत माना जाता है। इस दिन भगवान गणेश के अनिरुद्ध रूप की पूजा की जाती है। यह व्रत मनोवांछित फल देने वाला माना जाता ...

और पढ़ें »
जन्माष्टमी व्रत विधि (Janmashtami Vrat)

जन्माष्टमी व्रत विधि (Janmashtami Vrat)

जन्माष्टमी भगवान श्री कृष्ण के जन्म दिवस के उत्सव के रूप में मनाया जाता है। मान्यता है कि धर्म की पुन: स्थापना और अत्याचारी कंस का वध करने के लिए भगवान विष्णु जी ने कृष्ण जी का अवतार लिया था। लीलाधर भगवान श्री कृष्ण ...

और पढ़ें »
श्राद्ध विधि (Shraddh)

श्राद्ध विधि (Shraddh)

वर्ष 2016 में पितृ पक्ष 16 सितंबर से 30 सितंबर तक होंगे। इस दौरान पितरों का श्राद्ध किया जाता है। हिन्दू धर्म में मोक्ष की प्राप्ति के लिए पितरों का तर्पण और श्राद्ध करना बेहद आवश्यक माना गया है। वेदों में भी ...

और पढ़ें »
कन्या पूजन विधि (kanya)

कन्या पूजन विधि (kanya)

नवरात्र हिन्दुओं का धार्मिक पर्व है। इस पर में विशेष रूप से आदि शक्ति दुर्गा की पूजा की जाती है। यह पर्व पूरे नौ दिनों तक मनाया जाता है जिस दौरान देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है।

और पढ़ें »
अजा एकादशी व्रत (Aja Ekadashi)

अजा एकादशी व्रत (Aja Ekadashi)

पदम पुराण के अनुसार भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को अजा एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा तथा व्रत करने का विधान है। 


अजा एकादशी व्रत 2017 (Aja Ekadashi ...

और पढ़ें »
छठ व्रत विधि (Chhath)

छठ व्रत विधि (Chhath)

भगवान सूर्यदेव के प्रति भक्तों के अटल आस्था का अनूठा पर्व छठ पर्व हिन्दू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष के ...

और पढ़ें »
अहोई अष्टमी व्रत विधि (Ahoi Ashtami)

अहोई अष्टमी व्रत विधि (Ahoi Ashtami)

अहोई अष्टमी व्रत विधि (Ahoi ashtami Vrat Vidhi in Hindi)
संतान के जीवन में सुख-समृद्धि की कामना से कार्तिक कुष्ण अष्टमी को अहोई अष्टमी (Ahoi Ashtami 2017) का व्रत किया ...

और पढ़ें »
महा शिवरात्रि व्रत विधि (Maha Shivratri)

महा शिवरात्रि व्रत विधि (Maha Shivratri)

भगवान शिव की पूजा-वंदना करने के लिए प्रत्येक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि (मासिक शिवरात्रि) को व्रत रखा जाता है। लेकिन सबसे बड़ी शिवरात्रि फाल्गुन मास की कृष्ण चतुर्दशी होती है। इसे महाशिवरात्रि भी कहा जाता है। ...

और पढ़ें »
पूर्णिमा (Purnima)

पूर्णिमा (Purnima)

हिन्दू मान्यतानुसार पूर्णिमा तिथि चंद्रमा को सबसे प्रिय होती है। पूर्णिमा के दिन चन्द्रमा अपने पूर्ण आकार में होता है। पूर्णिमा के दिन पूजा-पाठ करना और दान देना बेहद शुभ माना जाता है। वैशाख, कार्तिक और माघ की ...

और पढ़ें »
रथ सप्तमी व्रत विधि (Ratha Saptami)

रथ सप्तमी व्रत विधि (Ratha Saptami)

भगवान सूर्य देव को समर्पित "रथ सप्तमी" का व्रत माघ मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को रखा जाता है। मान्यता है ...

और पढ़ें »
रविवार व्रत विधि (Ravivar)

रविवार व्रत विधि (Ravivar)

नारद पुराण में रविवार व्रत को सम्पूर्ण पापों को नाश करने वाला, आरोग्यदायक और अत्यधिक शुभ फल देने वाला माना जाता है। इस दिन भगवान सूर्यदेव की पूजा का विधान है।

रविवार व्रत विधि (Ravivar Vrat Vidhi) ...

और पढ़ें »
मंगलवार व्रत विधि (Mangalvar)

मंगलवार व्रत विधि (Mangalvar)

हिन्दू धर्म के अनुसार मंगलवार का दिन भगवान श्री हनुमान को समर्पित है। इस दिन मंदिरों में हनुमान जी की विशेष पूजा की जाती है। मंगलवार के दिन श्रद्धालु व्रत भी करते हैं। नारद पुराण के अनुसार मंगलवार का व्रत करने से भय ...

और पढ़ें »
नवरात्र पूजा विधि (Navratri Puja)

नवरात्र पूजा विधि (Navratri Puja)

नवरात्र पूजा विधि (Navratra Puja Vidhi)

नवरात्र के नौ दिन देवी दुर्गा के विभिन्न रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्र व्रत (Navratri Puja Vidhi) की शुरूआत प्रतिपदा तिथि को कलश स्थापना से की ...

और पढ़ें »
दुर्गा पूजा विधि (Durga Puja)

दुर्गा पूजा विधि (Durga Puja)

चैत्र और आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को दुर्गा जी की पूजा करने का विधान है। आश्विन मास की अष्टमी तो पूरे देश में धूमधाम से मनाई जाती है। इस दिन समस्त उपचारों से देवी दुर्गा की पूजा करने का विधान ...

और पढ़ें »
प्रदोष व्रत विधि (Pradosh)

प्रदोष व्रत विधि (Pradosh)

स्कंदपुराण के अनुसार त्रयोदशी तिथि में सांयकाल को प्रदोष काल कहा जाता है। धर्म, मोक्ष और सुख की प्राप्ति के लिए भक्तों को प्रदोष काल में शिवजी की पूजा करनी चाहिए।

प्रदोष व्रत विधि (Pradosh Vrat ...

और पढ़ें »
करवा चौथ व्रत विधि (Karwa Chauth Pooja)

करवा चौथ व्रत विधि (Karwa Chauth Pooja)

कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को करवा चौथ का व्रत किया जाता है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं। करवा चौथ के व्रत का पूर्ण विर्ण वामन पुराण में किया गया है।

और पढ़ें »
गणेश चतुर्थी (Ganesha Chaturthi)

गणेश चतुर्थी (Ganesha Chaturthi)

भाद्रपद मास की शुक्ल चतु्र्थी को अत्यंत शुभ माना जाता है। भविष्यपुराण अनुसार इस दिन अत्यंत फलकारी शिवा व्रत करना चाहिए। साथ ही इस दिन से दस दिनों का गणेश महोत्सव शुरू होता है।

गणेश चतुर्थी पूजा ...

और पढ़ें »
गुरू पूर्णिमा (Guru Poornima)

गुरू पूर्णिमा (Guru Poornima)

हिन्दू पंचांग के अनुसार आषाढ़ पूर्णिमा के दिन गुरु की पूजा करने की परंपरा है। इस दिन को गुरु पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है। नारदपुराण के अनुसार यह पर्व आत्मस्वरूप का ज्ञान पाने के अपने कर्तव्य की याद दिलाने ...

और पढ़ें »
वसंत पंचमी पूजा विधि (Vasant Panchami)

वसंत पंचमी पूजा विधि (Vasant Panchami)

देवीभागवत के अनुसार देवी सरस्वती की पूजा सर्वप्रथम भगवान श्री कृष्ण ने की थी। मान्यतानुसार माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि ...

और पढ़ें »

Raftaar.in