व्रत कथा

हरियाली तीज व्रत कथा

हरियाली तीज व्रत कथा

हरियाली तीज श्रावण माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया को रखा जाता है। साल 2016 में हरियाली तीज 05 अगस्त को मनाई जाएगी।  इस दिन निर्जला उपवास और शिव-पार्वती जी की पूजा का विधान है। मान्यता के अनुसार इसी दिन भगवान शिव और देवी पार्व...

और पढ़ें »
छठ व्रत कथा

छठ व्रत कथा

छठ व्रत भगवान सूर्यदेव को समर्पित एक विशेष पर्व है। भारत के कई हिस्सों में खासकर यूपी और बिहार में तो इसे महापर्व माना जाता है। शुद्धता, स्वच्छता और पवित्रता के साथ मनाया जाने वाला यह पर्व आदिकाल से मनाया जा रहा है। छठ व्रत में...

और पढ़ें »
गोवर्धन पूजा कथा

गोवर्धन पूजा कथा

कार्तिक शुक्ल पक्ष प्रतिपदा के दिन गोर्वधन पूजा  (Govardhan Puja) की जाती है। हिन्दू मान्यतानुसार महाभारत काल में इसी दिन भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत की पूजा की थी। तभी से यह परंपरा कायम है। साल 2016...

और पढ़ें »
हरतालिका तीज व्रत कथा

हरतालिका तीज व्रत कथा

भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाने वाले हरतालिका तीज व्रत की कथा इस प्रकार से है-

हरतालिका तीज व्रत (Hartalika Teej Vrat Katha in Hindi)

लिंग पुराण की एक कथा के अनुसार मां पा...

और पढ़ें »
बुधवार व्रत कथा

बुधवार व्रत कथा

बुध ग्रह की शांति और सर्व-सुखों की इच्छा रखने वाले स्त्री-पुरुषों को बुधवार का व्रत अवश्य करना चाहिए। कई जगह बुधवार के दिन गणेश जी के पूजा की जाती है। हालांकि बुधवार की व्रत कथा पूर्णत: भगवान बुध पर आधारित है। 

और पढ़ें »

रविवार व्रत कथा

रविवार व्रत कथा

सभी मनोकामनाएं पूर्ण करने वाले और जीवन में सुख-समृद्धि लाने वाले रविवार व्रत की कथा इस प्रकार से है- प्राचीन काल में किसी नगर में एक बुढ़िया रहती थी। वह प्रत्येक रविवार को सुबह उठकर स्नानादि से निवृत्त...

और पढ़ें »
गुरुवार व्रत कथा

गुरुवार व्रत कथा

बृहस्पतिवार के दिन विष्णु जी की पूजा होती है। यह व्रत करने से बृहस्पति देवता प्रसन्न होते हैं। स्त्रियों के लिए यह व्रत फलदायी माना गया है। अग्निपुराण के अनुसार अनुराधा नक्षत्र युक्त गुरुवार से आरंभ करके सात गुरुवार व्रत करने स...

और पढ़ें »
शनिवार व्रत कथा

शनिवार व्रत कथा

अग्नि पुराण के अनुसार शनि ग्रह की से मुक्ति के लिए "मूल" नक्षत्र युक्त शनिवार से आरंभ करके सात शनिवार शनिदेव की पूजा करनी चाहिए और व्रत करना चाहिए। शनिदेव के बारें में जानने के लिए क्लिक करें:और पढ़ें »

सावन सोमवार व्रत कथा

सावन सोमवार व्रत कथा

भारतीय हिन्दू कैलेंडर के अनुसार पांचवां मास श्रावण का होता है। आम बोलचाल की भाषा में इसे कई लोग सावन भी कहते हैं। यह महीना हिंदुओं के लिए विशेष और पवित्र माना जाता है। मान्यता है कि सावन भगवान शिव का पसंदीदा मास होता है। सावन म...

और पढ़ें »
प्रदोष व्रत कथा

प्रदोष व्रत कथा

स्कंद पुराण के अनुसार प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी के दिन संध्याकाल के समय को "प्रदोष" कहा जाता है और इस दिन शिवजी को प्रसन्न करने के लिए प्रदोष व्रत रखा जाता है। प्रदोष व्रत की कथा निम्न है:  और पढ़ें »

नृसिंह जयंती व्रतकथा

नृसिंह जयंती व्रतकथा

हिन्दू पंचांग के अनुसार नृसिंह जयंती का व्रत वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है. अग्नि पुराण में वर्णित कथाओं के अनुसार इसी पावन दिवस को भक्त प्रहलाद की रक्षा करने के लिए भगवान विष्णु ने न...

और पढ़ें »
शिवरात्रि व्रत कथा

शिवरात्रि व्रत कथा

फाल्गुन मास की कृष्ण चतुर्दशी को महाशिवरात्रि  के नाम से जाना जाता है। इस दिन उपवास सहित विधि-विधान से भगवान शिव की पूजा करने से नरक का योग मिटता है। महाशिवरात्रि के दिन व्रत कथा (Maha Shivratri Vrat Katha) पढ़ने की प्...

और पढ़ें »
करवा चौथ व्रत कथा

करवा चौथ व्रत कथा

करवा चौथ के दिन व्रत कथा पढ़ना अनिवार्य माना गया है। करवा चौथ की कई कथाएं है लेकिन सबका मूल एक ही है। करवा चौथ 2017 का व्रत 08 अक्टूबर को रखा जाएगा। करवा चौथ की एक प्रचलित कथा (Karwa Chauth Katha) निम्न है:

करवा...

और पढ़ें »
मंगलवार व्रत कथा

मंगलवार व्रत कथा

सर्वसुख, राजसम्मान तथा पुत्र-प्राप्ति के लिए मंगलवार व्रत रखना शुभ माना जाता है। आइयें पढ़े हनुमान जी से जुड़ी मंगलवार व्रत कथा: 


मंगलवार व्रत कथा (Mangalwar Vrat Katha in Hindi)

एक सम...

और पढ़ें »
सोमवार व्रत कथा

सोमवार व्रत कथा

हिन्दू धर्म के अनुसार सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है। जो व्यक्ति सोमवार के दिन भगवान शिव...

और पढ़ें »
शरद पूर्णिमा व्रत कथा

शरद पूर्णिमा व्रत कथा

आश्विन मास की पूर्णिमा को मनाया जाने वाला त्यौहार शरद पूर्णिमा (Sharad Poornima) की कथा कुछ इस प्रकार से है-

एक साहूकार के दो पुत्रियां थी। दोनों पुत्रियां पूर्णिमा का व्रत रखती थी, परन्तु बड़...

और पढ़ें »
शुक्रवार व्रत कथा

शुक्रवार व्रत कथा

शुक्रवार के दिन मां संतोषी का व्रत-पूजन किया जाता है। इस पूजा के अंत में माता की कथा सुनी जाती है। संतोषी माता और श...

और पढ़ें »
भाई दूज कथा

भाई दूज कथा

भाई-बहन के अटूट प्रेम और स्नेह के प्रतीक का पर्व भाई दूज की कथा इस प्रकार से है:

भाई दूज व्रत कथा (Bhai Dooj Vrat Katha) 

छाया भगवान सूर्यदेव की पत्नी हैं जिनकी द...

और पढ़ें »
रम्भा तृतीया व्रत

रम्भा तृतीया व्रत

रम्भा तृतीया व्रत

रम्भा तृतीया व्रत ज्येष्ठ माह में शुक्ल पक्ष के तीसरे दिन रखा जाता है। इस दिन अप्सरा रम्भा की पूजा की जाती है। इसे रम्भा तीज भी कहा जाता है।
हिन्दू मान्यतानुसार सागर मंथन से उत्प...

और पढ़ें »
जन्माष्टमी व्रत कथा

जन्माष्टमी व्रत कथा

भगवान श्री कृष्ण के जन्मोत्सव को जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाता है। हर वर्ष  भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को जन्माष्टमी का पर्व मना...

और पढ़ें »
अहोई अष्टमी व्रत कथा

अहोई अष्टमी व्रत कथा

कार्तिक कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को अहोई अष्टमी या आठे कहते है। अहोई शब्द का अर्थ होता है अनहोनी को होनी बनाना। यह व्रत करवा चौथ के चार दिन बाद किया जाता है। यह व्रत को केवल संतान वाली महिलाएं ही रख सकती है, क्योंकि यह व्रत बच...

और पढ़ें »
कार्तिक पूर्णिमा

कार्तिक पूर्णिमा

कार्तिक पूर्णिमा को कई जगह देव दीपावली के नाम से भी जाना जाता है। साल 2016 में कार्तिक पूर्णिमा 14 नवंबर को मनाई जाएगी। इस दिन व्रत रखना बेहद शुभ और पुण्य का काम माना जाता है। कार्तिक पूर्णिमा को त्रिपुरी पूर्णिमा (Kartik Poorn...

और पढ़ें »
होली की कहानी

होली की कहानी

होली की कहानी का संबंद्ध श्री हरि विष्णु जी से है। नारद पुराण के अनुसार आदिकाल में हिरण्यकश्यप नामक एक राक्षस हुआ था। दैत्यराज खुद को ईश्वर से भी बड़ा समझता था। वह चाहता था कि लोग केवल उसकी पूजा करें। लेकिन उसका खुद का पुत्र प्र...

और पढ़ें »
लोकप्रिय फोटो गैलरी