gototop
raftaarLogoraftaarLogoM
Search
Menu
BG
close button

हिन्दू धर्म की धार्मिक पुस्तकें
Hinduism Religious Books

रामायण (Ramayan)

रामायण (Ramayan)

महर्षि वाल्मीकि द्वारा लिखी गई "रामायण" एक संस्कृत महाकाव्य है। रामायण में लगभग चौबीस हजार श्लोक हैं। हिन्दू धर्म के इस पावन ग्रंथ में भगवान विष्णु के राम अवतार की कथा लिखी गई है। इस पवित्र धर्म-ग्रंथ को ...

और पढ़ें »
अग्नि पुराण (Agni Puran)

अग्नि पुराण (Agni Puran)

‘अग्नि पुराण’ समस्त महापुराणों की सूची में आठवें स्थान पर है, जिसने अपने साहित्य एवं ज्ञान भंडार के कारण विशेष पद प्राप्त किया है। अग्नि पुराण को 'भारतीय संस्कृति का विश्वकोश' भी कहा जाता है। ...

और पढ़ें »
विष्णु पुराण (Vishnupuran)

विष्णु पुराण (Vishnupuran)

'विष्णु पुराण' समस्त पुराणों में सबसे छोटे आकार किन्तु वैदिक काल का महत्त्वपूर्ण पुराण माना जाता है। इसकी भाषा साहित्यिक व काव्यमय गुणों से भरपूर है। 'विष्णुपुराण’ में लगभग तेईस हजार श्लोक ...

और पढ़ें »
नारद पुराण (Narad Puran)

नारद पुराण (Narad Puran)

अठारह महापुराणों में ‘नारद पुराण' (Narada Puran) या 'नारदीय पुराण' एक वैष्णव पुराण है। मान्यता है कि इसे देवर्षि नारद ने स्वयं अपने मुख से बोला था। इस पुराण में पच्चीस हजार ...

और पढ़ें »
मत्स्य पुराण (Matasya Puran)

मत्स्य पुराण (Matasya Puran)

मत्स्य पुराण एक बेहद विस्तृत पुराण है। यह एक विशेष वैष्णव पुराण है जो भगवान विष्णु के मत्स्य अवतार की कथा और उनके कार्यों पर आधारित है। इस पवित्र पुराण में भगवान विष्णु के मत्स्य अवतार की प्रमुख कथा, तथा तीर्थ, व्रत, ...

और पढ़ें »
वामन पुराण (Vaman Puran)

वामन पुराण (Vaman Puran)

हिन्दू धर्म में वामन पुराण का अहम महत्त्व है। “वामन” विष्णु जी का एक अवतार माना जाता है। दो भागों में बंटे वामन पुराण में कई रोचक कथाएं और जीवन से संबंधित नियमों आदि का वर्णन किया गया है। वामन पुराण में ...

और पढ़ें »
श्रीमद्भागवत पुराण (Shreemadbhagvat Puran)

श्रीमद्भागवत पुराण (Shreemadbhagvat Puran)

‘श्रीमद्भागवत’ पुराण वैष्णव समुदाय का प्रमुख ग्रन्थ है। भगवान विष्णु से संबंधित श्रीमद्भागवत पुराण में वेदों, उपनिषदों व दर्शन शास्त्र की व्याख्या विस्तारपूर्वक की गई है। श्रीमद्भागवत पुराण को सनातन धर्म ...

और पढ़ें »
गीता (Gita)

गीता (Gita)

हिन्दू धर्म में गीता को बेहद पवित्र ग्रंथ माना जाता है। महाभारत काल में रचे गए इस ग्रंथ को जीवन का सार समझा जाता है। गीता में कुल अठारह अध्याय तथा सात सौ से ज्यादा श्लोक हैं। गीता पूर्णतः अर्जुन और उनके सारथी ...

और पढ़ें »

Raftaar.in