सुंदर काण्ड

रामायण’ के पांचवें भाग को सुंदरकाण्ड के नाम से जाना जाता है। यह भाग मुख्य रूप से भगवान हनुमान जी को समर्पित है। हनुमान जी की राम भक्ति, लंका दहन के साथ इस भाग में हनुमान जी से जुड़े अनेकों प्रसंग है। आज भी हनुमान जी की पूजा में इस विशेष भाग का अवश्य पाठ किया जाता है।

सुंदरकाण्ड के लाभ (benefits of Sundarakand)

सुन्दरे सुन्दरी सीता सुन्दरे सुन्दर: कपि:।
सुन्दरे सुन्दरो राम: सुन्दरे किन्न सुन्दरम्॥

बृहद्धर्मपुराण के अनुसार सुंदरकाण्ड का पाठ श्राद्ध व आध्यात्मिक कार्यों में किया जाता है। इसके पठन व श्रवण से समस्त दुखों व पापों का नाश करते हुए मोक्ष प्राप्ति के लिए अग्रसर होता है। ज्योतिषी मानते हैं कि इस भाग का पाठ करने से मनुष्य के समस्त भय दूर हो जाते हैं। शनि दोष या नजर लगने जैसी समस्याओं में तो इस भाग के पाठ को राम-बाण कहा जाता है।

लोकप्रिय फोटो गैलरी