अनंत चतुर्दशी

श्रद्धालुजनों को संकटों से रक्षा करने वाला अनन्तसूत्र बंधन का त्यौहार अनंत चतुर्दशी हिन्दू पंचांग के अनुसार भाद्रपद मास के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाया जाता है। इस साल अनंत चतुर्दशी (Anant Chaturdashi 2017) का पर्व 05 सितंबर 2017 को मनाया जाएगा। 

अनंत चतुर्दशी पूजा मुहूर्त  (Ananat Chaturdashi Puja Muhurat)

इस साल अनंत चतुदर्शी के दिन पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 06:04 से लेकर दोपहर 12:41 तक चलेगा। (मुहूर्त दिल्ली समयानुसार है। )

अनंत चतुर्दशी व्रत कथा (Ananat Chaturdashi Vrat Katha in Hindi)

भविष्य पुराण के अनुसार जुए में पांडव राजपाट हार कर जब जंगल में भटक रहे थे और कई प्रकार के कष्टों को झेल रहे थे तब भगवान श्री कृष्ण ने उन्हें अनन्त चतुर्दशी का व्रत करने की सलाह दी और उसी व्रत के प्रभाव से पांडव सभी कष्टों से मुक्त हुए और महाभारत के युद्ध में उन्हें विजयी की प्राप्ति हुई थी।

अनंत चतुर्दशी व्रत विधि (Anant Chaturdashi Puja Vidhi in Hindi)

इस दिन व्रती को प्रातः काल स्नान कर कलश की स्थापना कर कलश पर अष्टदल कमल के समान बने बर्तन में कुश से निर्मित अनंत की स्थापना करना चाहिए और फिर शास्त्रानुसार भगवान अनंत के साथ- साथ भगवान विष्णु और विघ्नहर्ता गणेश जी का आवाहन कर उनकी पूजा करनी चाहिए।

अनंत चतुर्दशी का पर्व हिंदू हिन्दुओं के साथ- साथ जैन समाज के लिए भी महत्त्वपूर्ण है। जैन धर्म के दशलक्षण पर्व का इस दिन समापन होता है। जैन अनुयायी श्रीजी की शोभायात्रा निकालते हैं और भगवान का जलाभिषेक करते हैं। 

लोकप्रिय फोटो गैलरी