ईसाई धर्म की विशेषतायें

ईसाई धर्म विश्व के प्रमुख धर्मो में से एक है, जिसके अनुयायी ईसाई कहलाते हैं। ईसाई धर्म के पैरोकार ईसा मसीह के उपदेशों का पालन करते हैं। ईसाई धर्म के संस्थापक ईसा मसीह का जन्म रोमन के नजरथ में हुआ था। ईसाई धर्म के अनुयायीयों के अनुसार ईसा मसीह ईश्वर पुत्र हैं।

ईसाई धर्म के महत्वपूर्ण तथ्य (Importante Facts of Christianity)

* ईसाई धर्म की स्थापना ईश्वर पुत्र ‘ईसा मसीह’ ने की।
* ईसाई धर्म का मुख्य ग्रंथ ‘बाइबल’ है, जो दो खंड ‘पूर्वविधान’ व ‘नवविधान’ के रूप में विभाजित है।
* ईसा मसीह का जन्म जेरूसलम के पास बैथलेहम में हुआ था।
* ईसा मसीह की माता का नाम ‘मैरी’ और पिता का नाम ‘जोसेफ’ था।
* ईसा मसीह ने अपने जीवन के 30 साल एक बढ़ई के रूप में बैथलेहम के पास नाजरथ में बिताए।
* ईसाइयों में बहुत से समुदाय हैं मसलन कैथोलिक, प्रोटैस्टैंट, आर्थोडॉक्स, मॉरोनी, एवनजीलक।
* क्रिसमस, 25 दिसंबर को ईसा मसीह के जन्मदिन के उपलक्ष में मनाया जाता है।
* ईसाई धर्म का सबसे पवित्र चिह्न क्रॉस है।
* ईसाई एकेश्वरवाद में विश्वास रखते हैं। लेकिन परमपिता, उनके पुत्र ईसा मसीह और पवित्र आत्मा को भी त्रीक के रूप में मानते हैं।

भारत में ईसाई धर्म (Christianity in India)

भारत में ईसाई धर्म का प्रचार ईसा मसीह के प्रमुख शिष्यों में से एक संत टामस ने प्रथम शताब्दी में चेन्नई में आकर किया था। भारत के कुछ इसाईयों ने पोप की सत्ता को मानने से इंकार किया और 'जेकोबाइट' चर्च की स्थापना की। भारत के केरल राज्य में कैथोलिक चर्च की तीन शाखाएँ है: 

* सीरियन मलाबारी।
* सीरियन मालाकारी और।
* लैटिन। भारत में रोमन कैथोलिक चर्च की लैटिन शाखा के भी दो शाखाएँ हैं: ।
* गोवा, मंगलोर, महाराष्ट्रियन समूह: यह समूह पश्चिमी सभ्यता एवं विचारों से प्रभावित था।।
* तमिल समूह शुरुआत से ही अपनी प्राचीन भाषा व संस्कृति से जुड़ा हुआ है।

लोकप्रिय फोटो गैलरी