बोध गया

बोध गया बिहार में स्थित एक बौद्ध धार्मिक स्थल है। बिहार बौधगया के आध्यात्मिक महत्त्व के कारण विश्व विख्यात है। इस स्थान को बौद्ध धर्म का तीर्थ स्थान कहा जाता है। यूनेस्को द्वारा इस शहर को विश्व विरासत स्थल घोषित किया गया है। यहां स्थित महाबोधि मंदिर को बेहद विशेष माना जाता है।


बोध गया का इतिहास (History of Bodh Gaya)


मान्यतानुसार गौतम बुद्ध ने फाल्गू नदी के किनारे बोधिवृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्त किया था। तीन दिन तक लगातार तपस्या के बाद बैसाख पूर्णिमा के दिन उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। इस स्थान को बौद्ध सभ्यता का केन्द्र बिन्दू माना जाता है। बुद्ध की मृत्यु के पश्चात, मौर्य शासक अशोक ने यहां सैकडों मठों का निर्माण कराया था।

यहां स्थित महाबोधि मंदिर अपनी वास्तुकला के लिए भी प्रसिद्ध है। इस मंदिर में भगवान बुद्ध की पद्मासन की मुद्रा में मूर्ति स्थापित है।


बोधगया का त्यौहार (Bodh gaya festival 2015)


बोधगया में बुद्ध जयन्ती के अवसर पर विशेष आयोजन होते हैं। नये साल के अवसर पर यहां महाकाली पूजन कर मठों को पवित्र किया जाता है। भगवान बुद्ध और बौद्ध धर्म से जुड़ी शिक्षाओं के लिए बोध गया एक शानदार जगह है।

लोकप्रिय फोटो गैलरी