close button
विज्ञापन

Sikhism

सिख धर्म

Sikhism ReligionSikh Dharm ka uday Guru Nanak Dev Ji ki shikshao ke saath hota hai. Sikh ka arth hai shishya. Jo log Guru Nanak Ji ki shikshao par chalte gaye, ve Sikh ho gaye. Guru Nanak Dev Ji ka janam 1469 me Lahor ke Talwandi (Ab Nankana Sahib) me hua. Bachpan se hi unka man ekant, chintan aur satsang me lagta tha. Sansarik chijo me unka man lagane ke liye unka Vivah kar diya gay. Guru Nanak Ji ke yaha 2 putr huye. Parantu yah sab Guru Nanak Ji ko Paramatma ke Naam se door nahi kar paya. Unhone ghar chhodkar ghumna shuru kar diya. Punjab, Makka, Madina, Kabul, Sinhal, Kaamroop, Puri, Delhi, Kashmir, Kashi, Haridwar jaisi jagaho par jakar unhone logo ko updesh diye. Unka kahna tha ki Hindu-Muslim agal nahi hain aur sabko ek hi Bhagwan ne banaya hai. Unhone kaha, Ek Onkar (Ishwar ek hai), Satnaam (Uska Naam hi sach hai), Karta Purakh (Sabko banane wala), Akaal Moorat (Nirakaar), Nirbhao (Nirbhay), Nirvair (Kisi ka dushman nahin), Ajuni Saibhn (Janm-Maran se door) aur apni satta kayam rakhne wala hai. Aise Parmatma ko Guru Nanak Ji ne Akaal Purakh kaha, jiski sharan Guru ke bina sambhav nahin. Unke sahaj gyan ke saath log judte gaye. Unke shishya bante gaye. Guru Nanak se chali Sikh parampra me 9 aur Guru huye. Antim aur dasve dehdhari Guru Guru Gobind Singh Ji the. Unhone apne baad Guruo ki pavitra Vani ke Granth ko Guru ki Gaddi saumpi aur Sikho se kaha- Ab koi dehdhari Guru nahin hoga. Sabhi Sikho ko aadesh hai ki ve Guru Granth Sahib Ji ko hi Guru manenge. Tab se Sikh Dharm me pavitra Guru Granth Sahib Ji ko hi Guru mana gaya. Yah Dharm Vishav ka nauva bada Dharm aur Bharat ka panchwa sangthit Dharm bhi hai.
Source: Raftaar Live

सिख धर्म का उदय गुरु नानक देव जी की शिक्षाओं के साथ होता है। सिख का अर्थ है शिष्य। जो लोग गुरु नानक जी की शिक्षाओं पर चलते गए, वे सिख हो गए। गुरु नानक देव जी का जन्म 1469 ईस्वी में लाहौर के तलवंडी (अब ननकाना साहिब) में हुआ। बचपन से ही उनका मन एकांत, चिंतन और सत्संग में लगता था। संसारिक चीजों में उनका मन लगाने के लिए उनका विवाह कर दिया गया। गुरु नानक जी के यहां दो पुत्र हुए। परन्तु यह सब गुरु नानक जी को परमात्मा के नाम से दूर नहीं कर पाया। उन्होंने घर छोड़कर घूमना शुरू कर दिया। पंजाब, मक्का, मदीना, काबुल, सिंहल, कामरूप, पुरी, दिल्ली, कश्मीर, काशी, हरिद्वार जैसी जगहों पर जाकर उन्होंने लोगों को उपदेश दिए। उनका कहना था कि हिन्दू-मुस्लिम अलग नहीं हैं और सबको एक ही भगवान ने बनाया है। उन्होंने कहा, एक ओंकार (ईश्वर एक है), सतनाम (उसका नाम ही सच है), करता पुरख (सबको बनाने वाला), अकाल मूरत (निराकार), निरभउ (निर्भय), निरवैर (किसी का दुश्मन नहीं), अजूनी सैभं (जन्म-मरण से दूर) और अपनी सत्ता कायम रखने वाला है। ऐसे परमात्मा को गुरु नानक जी ने अकाल पुरख कहा, जिसकी शरण गुरु के बिना संभव नहीं। उनके सहज ज्ञान के साथ लोग जुड़ते गए। उनके शिष्य बनते गए। गुरु नानक से चली सिख परम्परा में नौ और गुरु हुए। अंतिम और दसवें देहधारी गुरु गुरु गोबिंद सिंह जी थे। उन्होंने अपने बाद गुरुओं की वाणी के ग्रंथ को गुरु की गद्दी सौंपी और सिखों से कहा- अब कोई देहधारी गुरु नहीं होगा। सभी सिखों को आदेश है कि वे गुरु ग्रंथ साहिब जी को ही गुरु मानेंगे। तब से सिख धर्म में पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब ही को गुरु माना गया। यह धर्म विश्व का नौवां बड़ा धर्म है और भारत का पांचवां संगठित धर्म भी।
Source: Raftaar Live
विज्ञापन

Connect with us

विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer : raftaar.in indexes third party websites as a search engine and does not have control over, nor any liability for the content of such third party websites. This is an automated technology to crawl the web and does not intend to infringe on rights of any site. However, if you believe that any of the search results, link to content that infringes your copyright, please email us at admin at raftaar.in and we will drop it from our automated index.