Search
Menu
close button

श्री विमलनाथ जी (Shri Vimalnath Ji)

Shri Vimalnath Ji

जैन धर्म के तेरहवें तीर्थंकर भगवान श्री विमलनाथ जी का जन्म कम्पिलाजी में इक्ष्वाकुवंश के राजा कृतवर्म की पत्नी माता श्यामा देवी के गर्भ से माघ शुक्ल तृतीया को उत्तराभाद्रपद नक्षत्र में हुआ था. इनके शरीर का रंग सुवर्ण था और इनका चिन्ह शूकर था. इनके यक्ष का नाम षण्मुख था जबकि यक्षिणी का नाम विदिता देवी था. जैन धर्मावलम्बियों के अनुसार इनके कुल गणधरों की संख्या 57 थी, जिनमें मंदर स्वामी इनके प्रथम गणधर थे. भगवान श्री विमलनाथ जी को कम्पिलाजी में माघ शुक्ल चतुर्थी को दीक्षा की प्राप्ति हुई थी और दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 2 दिन बाद खीर से इन्होनें प्रथम पारणा किया था. दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 2 महीने तक कठोर तप करने के बाद कम्पिलाजी में ही जम्बू वृक्ष के नीचे इन्हें कैवल्यज्ञान की प्राप्ति हुई थी.
आषाढ़ कृष्णपक्ष की सप्तमी तिथि को सम्मेद शिखर पर्वत पर भगवान श्री विमलनाथ जी ने निर्वाण को प्राप्त किया था.

Jain Dharm ke terahven tirthankar Bhagvan Shri Vimalnath Ji ka janm Kampilaji me Ikshvaakuvansh ke Raja Kritvarm ki patni Mata Shyama Devi ke garbh se Magh Shukl Tritiya ko Uttarabhadrapad nakshtra me hua tha. Inke sharir ka rang suvarn tha aur inka chinha Shukar tha. Inke yaksh ka naam Shanmukh tha jabki yakshini ka naam Vidita Devi tha. Jain Dharmavlambiyo ke anusar inke kul gandharo ki sankhya 57 thi, jinme Mandar Swami inke pratham gandhar the. Bhagvan Shri Vimalnath Ji ko Kampilaji me Magh Shukl Chaturthi ko diksha ki prapti huyi thi aur diksha prapti ke pashchat 2 din baad Kheer se inhone pratham paarnaa kiya tha. Diksha prapti ke pashchat 2 mahine tak kathor tap karne ke baad Kampilaji me hi Jambu Vriksh ke niche inhe Kaivalyagyan ki prapti huyi thi.
Aashadh Krishnapaksh ki Saptmi tithi ko Sammed Shikhar parvat par Bhagvan Shri Vimalnath Ji ne nirvan ko prapt kiya tha.

Raftaar.in

फोटो गैलरी