close button
जिनवानी- हम चंदन की तरह सभी के प्रति शीतलता और सदभाव से भरकर जिए।

25-04-2014

जैन पंचांग

Source : Jyotish ratna Jainii Jiyalal Shikharchandra Chaudhari Rajvaidya krit Asli Panchang
विज्ञापन

Jainism

जैन धर्म

Jainism ReligionPurane samay me Tap aur mehnat se gyan prapt karne walo ko Shraman kaha jata tha. Jain Dharm prachin bhartiya Shraman prampra se hi nikla Dharm hai. Aise Bhikshu ya Saadhu, jo Jain Dharm ke 5 mahavarto ka palan karte ho, ko ‘Jin’ kaha gaya. Hinsa, Jhooth, Chori, Brahmcharya aur sansarik cheejo se door rahna in mahavarto me shamil hain. Jain Dharm ke teerthankaro ne apne Man, apni Vani aur Kaya ko jeet liya tha, ‘Jin’ ke anuyayiyo ko Jain kaha gaya hai. Yah Dharm anuyayiyo ko sikhata hai ki ve Satya par tike, Prem kare, Hinsa se door rahe, Daya-Karuna ka bhav rakhe, Paropkari bane aur Bhog-Vilas se door rahkar har kaam Pavitra aur Satvit dhang se karen. manyata hai ki Jain Panth ka mool un purani parmparao me raha hoga, jo is desh me Aaryo ke aane se pahle prachlit thi. Yadi Aaryo ke aane se baad se bhi dekhen to Rishabhdev aur Arishtnemi ko lekar Jain Dharm ki parmpra Vedo tak pahunchti hai. Mahabharat ke samay is panth ke Teerthankar Neminath the. B.C. aathavi sadi me 23ve teerthankar Parasnath huye. Unke baad Mahavir aur Buddh ke samay me sampradaye bant gaya. Kuchh Baudh to Kuchh Jain ho gaye. Jain Dharm Ke antim Teerthankar Mahavir Vardhman huye. Unhone Jain Dharm ko kaafi majboot kiya. Is waqt Jain Dharm ke do dal hain. Ek Shwetambar muni (safed kapde dharan karne wale) to dusre Digambar (bina kapde dharan kiye rahne wale) muni.
Source: Raftaar Live

पुराने समय में तप और मेहनत से ज्ञान प्राप्त करने वालों को श्रमण कहा जाता था। जैन धर्म प्राचीन भारतीय श्रमण परम्परा से ही निकला धर्म है। ऐसे भिक्षु या साधु, जो जैन धर्म के पांच महाव्रतों का पालन करते हों, को ‘जिन’ कहा गया। हिंसा, झूठ, चोरी, ब्रह्मचर्य और सांसारिक चीजों से दूर रहना इन महाव्रतों में शामिल हैं। जैन धर्म के तीर्थंकरों ने अपने मन, अपनी वाणी और काया को जीत लिया था। ‘जिन’ के अनुयायियों को जैन कहा गया है। यह धर्म अनुयायियों को सिखाता है कि वे सत्य पर टिकें, प्रेम करें, हिंसा से दूर रहें, दया-करूणा का भाव रखें, परोपकारी बनें और भोग-विलास से दूर रहकर हर काम पवित्र और सात्विक ढंग से करें। मान्यता है कि जैन पंथ का मूल उन पुरानी परम्पराओं में रहा होगा, जो इस देश में आर्यों के आने से पहले प्रचलित थीं। यदि आर्यों के आने के बाद से भी देखें तो ऋषभदेव और अरिष्टनेमि को लेकर जैन धर्म की परम्परा वेदों तक पहुंचती है। महाभारत के समय इस पंथ के तीर्थंकर नेमिनाथ थे। ई।पू। आठवीं सदी में 23वें तीर्थंकर पार्श्वनाथ हुए। उनके बाद महावीर और बुद्ध के समय में संप्रदाय बंट गया। कुछ बौद्ध तो कुछ जैन हो गए। जैन धर्म के अंतिम तीर्थंकर महावीर वर्धमान हुए। उन्होंने जैन धर्म को काफी मजबूत किया। इस वक्त जैन धर्म के दो दल हैं। एक श्वेतांबर मुनि (सफेद कपड़े धारण करने वाले) तो दूसरे दिंगबर (बिना कपड़े धारण किए रहने वाले) मुनि।
Source: Raftaar Live
विज्ञापन

Connect with us

विज्ञापन

Tirthankar

तीर्थंकर

विज्ञापन

Disclaimer : raftaar.in indexes third party websites as a search engine and does not have control over, nor any liability for the content of such third party websites. This is an automated technology to crawl the web and does not intend to infringe on rights of any site. However, if you believe that any of the search results, link to content that infringes your copyright, please email us at admin at raftaar.in and we will drop it from our automated index.