close button
विज्ञापन
नमाज़ का समयAs on 21-April-2014
CityFajrSunriseDhuhrAsrMaghribIsha
Bangalore04:5106:0412:1815:2518:3319:46
Delhi04:2705:5012:2015:5418:5020:13
Mumbai05:0206:1712:3715:5718:5820:13
Nagpur04:3305:5012:1215:3518:3419:51
Lucknow04:1605:3712:0515:3718:3419:55

Islam

इस्लाम धर्म

Islam ReligionIslam ka uday kab hua, is par alag-alag avdharnaye hain. Kuchh log ise saatvi sadi me shuru hua mante hain to kuchh mante hain ki yah Aadikaal se chal raha hai. Ek paksh manta hai ki Islam ka uday saatvi sadi me Arab se hua. Antim Nabi Muhammad Sahab ka janm 570 isvi me Makka me hua. 613 ke aaspas unhone logo me gyan batna shuru kiya to unke bahut se anuyayi bante chale gaye. Isi ghatna ko Islam ki shuruat kaha gaya. Dusre paksh ke vicharak ise sahi nahi mante. Ve Islam ke mool granth Kuran ke aadhar par iski shuruat dekhte hain. Inke anusar, Islam aadikaal se astitva me hai. Kuran me pahle insaan ‘Aadam’ ka jikr hai. ‘Muslim’ shabd ka istemaal Hazrat Ebrahim (Alaihi.) ke liye kiya hai, jo lagbhag 4 hazar saal pahle ek mahan Paigambar huye. Kaha jata hai ki Hazrat Aadam (Alaihi.) se lekar Hazrat Muhammad (Sall.) tak hajaro varsho me kai Paigambar huye. Inme se 26 ke naam Kuran me hain. Inke anusar, Hazrat Muhammad (Sall.) Islam ke pravartak (founder) nahi the, balki aahwahak (Ishwar ka sandesh failane wale ek Paigambar) the. Islam ke mutabik koi Insaan tab tak sachcha Musalmaan nahi ho sakta jab tak ki wah 5 karmo ko pura na kare. In pancho me ye shamil hain- 1. Wah is baat ko mane ki Allah ke alawa koi anya pujya nahi hai aur Muhammad Sallallahu Alaihi Vasallam Allah ke sandeshwahak hain. 2. Namaz kayam kare. 3. Aniwarya Dharm-Daan (Zakaat) de. 4. Ramzaan ke mahine ka Roza rakhe. 5. Kaba ka Hazz kare, yadi wah wahan tak pahunche me samarth ho.
Source: Raftaar Live

इस्लाम का उदय कब हुआ, इस पर अलग-अलग अवधारणाएं हैं। कुछ लोग इसे सातवीं सदी में आरम्भ हुआ मानते हैं तो कुछ मानते हैं कि यह आदिकाल से चल रहा है। एक पक्ष मानता है कि इस्लाम का उदय सातवीं सदी में अरब में हुआ। अंतिम नबी मुहम्मद साहब का जन्म 570 इस्वी में मक्का में हुआ। 613 इस्वी के आसपास उन्होंने लोगों को ज्ञान बांटना आरम्भ किया तो उनके बहुत से अनुयायी बनते चले गए। इसी को इस्लाम की शुरुआत कहा गया। दूसरे पक्ष के विचारक इसे सही नहीं मानते। वे इस्लाम के मूल ग्रंथ कुरआन के आधार पर इसकी शुरुआत देखते हैं। इनके अनुसार इस्लाम आदिकाल से अस्तित्व में है। कुरआन में पहले इंसान ‘आदम’ का जिक्र है। ‘मुस्लिम’ शब्द का इस्तेमाल हज़रत इब्राहिम (अलैहि।) के लिए किया है, जो लगभग 4 हजार साल पहले एक महान पैगम्बर हुए। कहा जाता है कि हज़रत आदम (अलैहि।) से लेकर हज़रत मुहम्मद (सल्ल।) तक हजारों वर्षों में कई पैगम्बर हुए। इनमें से 26 के नाम कुरआन में हैं। इनके अनुसार, हज़रत मुहम्मद (सल्ल।) इस्लाम के प्रवर्तक(फाउंडर) नहीं थे, बल्कि आह्वाहक (ईश्वर का संदेश फैलाने वाले एक पैगम्बर) थे। इस्लाम के मुताबिक कोई इन्सान तब तक सच्चा मुसलमान नहीं हो सकता जब तक कि वह पांच कर्मों को पूरा ना करे। इन पांचों में ये शामिल हैं- 1। वह इस बात को माने कि अल्लाह के अलावा कोई अन्य पूज्य नहीं है और मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम अल्लाह के संदेशवाहक हैं। 2। नमाज़ कायम करे। 3। अनिवार्य धर्म-दान (ज़कात) दे। 4। रमज़ान के महीने का रोज़ा रखे। 5। काबा का हज्ज करे, यदि वह वहां तक पहुंचने में समर्थ हो।
Source: Raftaar Live

Islamic Festival Calendar 2014

January 2014
विज्ञापन

Connect with us

Religious Text

धार्मिक पुस्तकें

Raftaar Religionकुरान
Raftaar Religionहदीथ
Raftaar Religionअन्य पुस्तकें
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer : raftaar.in indexes third party websites as a search engine and does not have control over, nor any liability for the content of such third party websites. This is an automated technology to crawl the web and does not intend to infringe on rights of any site. However, if you believe that any of the search results, link to content that infringes your copyright, please email us at admin at raftaar.in and we will drop it from our automated index.