Search
Menu
close button
Dharm / Hinduism / Religious Places / Naina Devi Shakti Peeth Temple

नैना देवी मंदिर- शक्तिपीठ (Naina Devi Mandir- Shakti Peeth)

हिन्दुओं का पवित्र तीर्थ स्थल नैना देवी मंदिर हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले के शिवालिक पर्वत की श्रेणियों पर स्थित है. मान्यता है कि यहां पर माता सती के दोनों नेत्र गिरे थे. माता नैना देवी अपने इस भव्य मंदिर में पिंडी रूप में स्थापित हैं. नैना देवी मंदिर के मुख्य द्वार के दाई ओर भगवान गणेश और हनुमानजी की मूर्ति है और मुख्यद्वार के पार करने के पश्चात् शेर की दो प्रतिमाएं है, जिसे माता का वाहन माना जाता है. नैना देवी मंदिर के गर्भगृह में 3 मुख्य मूर्तियां हैं, जिसमें माता नैना देवी मध्य में हैं, उनके दाई ओर माता काली हैं, जबकि उनके बाई ओर गणेश जी हैं. मंदिर के समीप एक गुफा है, जिसे नैना देवी गुफा कहा जाता है.

नवरात्री नैना देवी मदिर का प्रमुख त्यौहार है. हिन्दू पंचांग के अनुसार चैत्र और आश्विन में होने वाले दोनों नवरात्री के अवसर पर माता के इस मंदिर में विशाल मेले का आयोजन किया जाता है. भोग के रूप में माता को 56 प्रकार की वस्तुओं का भोग लगाया जाता है. आस्थावान भक्तों में मान्यता है कि इस समय यदि कोई श्रद्धा से माता की पूजा-अर्चना करता है तो, उसकी सारी मुसीबतें समाप्त हो जाती हैं और वह धन, धान्य और संतान आदि का सुख प्राप्त करता है.

Hinduo ka pavitra tirth sthal Naina Devi Mandir Himachal Pradesh ke Bilaspur Zile ek Shivalik parvat ki shreniyo par sthit hai. Manyata hai ki yaha par Mata Sati ke dono netra gire the. Mata Naina Devi apne is bhavya mandir me Pindi ke roop me sthapit hain. Naina Devi Mandir ke mukhya dwar ke dayi or Bhagvan Ganesh aur Hanumanji ki murti hai aur mukhya dwar ke paar karne ke pashchat sher ki do pratimayen hai, jise Mata ka vahan mana jata hai. Naina Devi mandir ke garbh grih me 3 mukhya murtiyan hain, jisme Mata Naina Devi Madhya me hain, unke dayi or Mata Kali hain jabki unke bayi or Ganeshji hain. Mandir ke samip ek gufa hai, jise Naina Devi Gufa kaha jata hai.

Navratri Naina Devi Mandir ka pramukh tyohar hai. Hindu Panchang ke anusar Chaitra aur Ashwin me hone wale dono navratri ke avsar par mata ke is mandir me vishal mele ka aayojan kiya jata hai. Bhog ke roop me mata ko 56 prakar ki vastuo ka bhog lagaya jata hai. Aashtavan bhakto me manyata hai ki is samay yadi koi shraddha se mata ki pooja-archna karta hai to, uski sari musibate samapt ho jati hai aur wah dhan, dhanya aur santaan aadi ka sukh prapt karta hai.

Raftaar.in

फोटो गैलरी