close button

Somvar (Monday) Vrat Katha

Daily Vrat mondayहिन्दू धर्म के अनुसार सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है। जो व्यक्ति सोमवा...
पूरा पढ़ें
सोमवार, मंगलवार, बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार, रविवार

Religious Places

Raftaar Religionवैष्णो देवी
Vaishno Devi
Raftaar Religionचामुंडा मंदिर- शक्तिपीठ
Chamunda Mandir- Shakti Peeth
Raftaar Religionभद्रकाली मंदिर- शक्तिपीठ
Bhadrakali Mandir- Shakti Peeth
Raftaar Religionमहामाया मंदिर- शक्तिपीठ
Mahamaya Mandir- Shakti Peeth
Raftaar Religionशुचीन्द्रम मंदिर- शक्तिपीठ
Suchindram Mandir- Shakti Peeth
Raftaar Religionललिता देवी मंदिर- शक्तिपीठ
Lalita Devi Mandir- Shakti Peeth
Raftaar Religionहृदयपीठ मंदिर- शक्तिपीठ
Hridaypeeth Mandir- Shakti Peeth
Raftaar Religionकालिका मंदिर- शक्तिपीठ
Kalika Mandir- Shakti Peeth
Raftaar Religionहिंगलाज मंदिर- शक्तिपीठ
Hinglaj Mandir- Shakti Peeth
Raftaar Religionकामख्या मंदिर- शक्तिपीठ
Kamakhya Mandir- Shakti Peeth
Raftaar Religionश्री विशालाक्षी मंदिर- शक्तिपीठ
Shri Vishalakshi Mandir- Shakti Peeth
Raftaar Religionनैना देवी मंदिर- शक्तिपीठ
Naina Devi Mandir- Shakti Peeth
Raftaar Religionज्वाला देवी मंदिर- शक्तिपीठ
Jwala Devi Mandir- Shakti Peeth
Raftaar Religionकैलाश मानसरोवर
Kailash Mansarovar
Raftaar Religionमल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग
Mallikarjuna Jyotirling
Raftaar Religionघुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग
Ghushmeshwar Jyotirling
Raftaar Religionभीमशंकर ज्योतिर्लिंग
Bhimshankar Jyotirling
Raftaar Religionकेदारनाथ ज्योतिर्लिंग
Kedarnath Jyotirling
Raftaar Religionश्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग
Shri Nageshwar Jyotirling
Raftaar Religionतिरुपति बालाजी
Tirupati Balaji
Raftaar Religionवैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग
Vaidyanath Jyotirling
Raftaar Religionत्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग
Tryambkeshwar Jyotirling
Raftaar Religionरामेश्वरम ज्योतिर्लिंग
Rameshwaram Jyotirling
Raftaar Religionसोमनाथ ज्योतिर्लिंग
Somnath Jyotirling
Raftaar Religionओम्कारेश्वर ज्योतिर्लिंग
Omkareshwar Jyotirling
Raftaar Religionमहाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग
Mahakaleshwar Jyotirling
Raftaar Religionकाशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग
Kashi Vishwanath Jyotirling
विज्ञापन

Chhath Poojaछठ पूजा

Chhath-PoojaBhagvan Suryadev ke prati bhakto ke atal aastha ka anutha parv Chhath Hindu Panchang ke anusar Kartik Maas ke Shukl Paksh ke Chaturthi se Saptami tithi tak manaya jata hai. Diwali ke thik chhah din baad manaye janewale is manavrat ki sabse kathin aur sadhko hetu sabse mahtvapurv ratri Kartik Shukl Shashthi ki hoti hai, jis karan Hinduo ke is param pavitra vrat ka naam Chhath pada. Chaar dino tak manaya janewala Suryopasna ka yah anupam mahaparv mukhy roop se Bihar, Jharkhand, Uttarpradesh sahit sampurn Bharatvarsh me manaya jata hai. Yu to sadbhavna aur upasna ke is parv ke sandarbh me kayi kathaye prachalit hain, kintu pauranik shastro ke anusar jab Pandav juye me apna saara raajpaat haar gaye, tab draupadi ne Chhath ka vrat rakha, falswaroop Pandavo ko apna raajpaat mil gaya.
Tapasya ka swaroop Chhath Pooja ka vrata prayah mahilayen aur purush dono ke dwara rakhe jate hain. Kathanusar Chhath Devi Bhagvan Suryadev ki bahan hain aur unhi ko prasann karne ke liye bahktgan Bhagvan Surya ki aradhna tatha unka dhanyavaad karte huye Maa Ganga-Yamuna ya kisi nadi ke kinare is pooja ko manate hain. Is parv ke pahle din ghar ki saaf safai aur shuddh shakahari bhojan kiya jata hai, dusre din Kharna ka karyakram hota hai, tisre din Bhagvan Surya ko sandhya arghya diya jata hai aur chauthe din bhakt uadiyamaan Surya ko usha arghya dete hain. Manyata hai ki yadi koi is mahavrat ko nishtha aur vidhipurvak sampann karta hai to nihsantaano ko santaan ki prapti aur prani ko sabhi parakar ke dukho aur taapo se mukti milti hai.
Source: Raftaar Live

भगवान सूर्यदेव के प्रति भक्तों के अटल आस्था का अनूठा पर्व छठ हिन्दू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष के चतुर्थी से सप्तमी तिथि तक मनाया जाता है. दिवाली के ठीक छह दिन बाद मनाए जानेवाले इस महाव्रत की सबसे कठिन और साधकों हेतु सबसे महत्वपूर्ण रात्रि कार्तिक शुक्ल षष्टी की होती है, जिस कारण हिन्दुओं के इस परम पवित्र व्रत का नाम छठ पड़ा. चार दिनों तक मनाया जानेवाला सूर्योपासना का यह अनुपम महापर्व मुख्य रूप से बिहार, झारखंड, उत्तरप्रदेश सहित सम्पूर्ण भारतवर्ष में बहुत ही धूमधाम और हर्सोल्लासपूर्वक मनाया जाता है. यूं तो सदभावना और उपासना के इस पर्व के सन्दर्भ में कई कथाएं प्रचलित हैं, किन्तु पौराणिक शास्त्रों के अनुसार जब पांडव जुए में अपना सारा राजपाट हार गए, तब द्रौपदी ने छठ का व्रत रखा, फलस्वरूप पांडवों को अपना राजपाट मिल गया.
तपस्या का स्वरुप छठ पूजा का व्रत प्रायः महिलाएं और पुरुष दोनों के द्वारा रखे जाते हैं. कथानुसार छठ देवी भगवान सूर्यदेव की बहन हैं और उन्हीं को प्रसन्न करने के लिए भक्तगण भगवान सूर्य की आराधना तथा उनका धन्यवाद करते हुए मां गंगा-यमुना या किसी नदी के किनारे इस पूजा को मनाते हैं. इस पर्व में पहले दिन घर की साफ़ सफाई और शुद्ध शाकाहारी भोजन किया जाता है, दूसरे दिन खरना का कार्यक्रम होता है, तीसरे दिन भगवान सूर्य को संध्या अर्घ्य दिया जाता है और चौथे दिन भक्त उदियमान सूर्य को उषा अर्घ्य देते हैं. मान्यता है कि यदि कोई इस महाव्रत को निष्ठां और विधिपूर्वक संपन्न करता है तो निःसंतानों को संतान की प्राप्ति और प्राणी को सभी प्रकार के दुखों और तापों से मुक्ति मिलती है.
Source: Raftaar Live

Features of Hinduism

हिन्दुत्व के तत्व

Raftaar Religionहिन्दुत्व एकत्व का दर्शन है
Hindutva ekatv ka darshan hai
Raftaar Religionहिन्दुत्व का लक्ष्य पुरुषार्थ है और मध्य मार्ग को सर्वोत्तम माना गया है
Hindutva ka lakshya pursharth hai aur madhya marg ko sarvottam mana gaya hai
Raftaar Religionहिन्दुओं के पर्व और त्योहार खुशियों से जुड़े हैं
Hinduon ke parv aur tyohar khushiyon se jude hai
Raftaar Religionसबसे बड़ा मंत्र गायत्री मंत्र
Sabse bada mantr gaayatri mantr hai
Raftaar Religionआत्मा अजर-अमर है
Atma ajar - amar hai
Raftaar Religionहिन्दू दृष्टि समतावादी एवं समन्वयवादी
Hindu drishti samtavadi evam samanyavaadi hai
Raftaar Religionपर्यावरण की रक्षा को उच्च प्राथमिकता
Paryavaran ki raksha ko uchh prathimiktaa
Raftaar Religionहिन्दुत्व का वास हिन्दू के मन, संस्कार और परम्पराओं में
Hindutva ka vaas hindu ke man, sanskar, aur paramparon mein hai
Raftaar Religionसती का अर्थ पति के प्रति सत्यनिष्ठा है
Sati ka arth pati ke prati satyanishta hai
Raftaar Religionस्त्री आदरणीय है
Stri adarniya hai
Raftaar Religionप्राणि-सेवा ही परमात्मा की सेवा है
Prani seva he parmatma ki seva hai
Raftaar Religionक्रिया की प्रतिक्रिया होती है
Kriya ki pratikriya hoti hai
Raftaar Religionहिन्दुओं में कोई पैगम्बर नहीं है
Hindu main koi paigambar nahin hai
Raftaar Religionहिन्दुत्व का लक्ष्य स्वर्ग-नरक से ऊपर
Hindutva ka lakshya swarg narak se upar hai
Raftaar Religionईश्वर से डरें नहीं, प्रेम करें और प्रेरणा लें
Ishvar se dare nahin, prem karen aur prerna le
Raftaar Religionब्रह्म या परम तत्त्व सर्वव्यापी है
Brahm ya param tatv sarvavyapii hai
Raftaar Religionईश्वर एक नाम अनेक
Ishwar ka naam anek
Raftaar Religionहिन्दुत्व के प्रमुख तत्व
Hindutva ke pramukh tatv
विज्ञापन

Connect with us

Daily Rashiphal

Daily Rashiphal in Hindi - राशिफल
विज्ञापन
Raftaar Religionश्री हनुमानजी की आरती
Shri Hanuman ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री साई बाबा की आरती
Shri Sai Baba ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री श्यामबाबा की आरती
Shri Shyam Baba ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री कुंज बिहारी की आरती
Shri Kunj Bihari ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री सत्यनारायणजी की आरती
Shri Satya Narayan ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री वृहस्पति देव की आरती
Shri Brihaspati dev ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री रामचन्द्रजी की आरती
Shri Ram Chandra ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री गणेशजी की आरती
Shri Ganesh ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री राणी सतीजी की आरती
Shri Rani Sati mata ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री अम्बें जी की आरती
Shri Ambe Mata ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री शिवजी की आरती
Shri Shiv ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री सरस्वती प्रार्थना
Shri Saraswati Prarthana
Raftaar Religionश्री कालीमाता की आरती
Shri Kali Mata ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री लक्ष्मीजी की आरती
Shri Laxmi Mata ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री गणेशजी की आरती
Shri Ganesh ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री संतोषी माता आरती
Shri Santoshi Mata ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री सरस्वतीमाता की आरती
Shri Saraswati Mata ji ki Aarti
Raftaar Religionश्री शनि देवजी की आरती
Shri Shani dev ji ki Aarti
विज्ञापन

Disclaimer : raftaar.in indexes third party websites as a search engine and does not have control over, nor any liability for the content of such third party websites. This is an automated technology to crawl the web and does not intend to infringe on rights of any site. However, if you believe that any of the search results, link to content that infringes your copyright, please email us at admin at raftaar.in and we will drop it from our automated index.