Raftaar Home
Search
Menu
close button

पोंगल (Pongal)

Pongal

पोंगल 2014
किसानों का त्यौहार पोंगल मुख्य रूप से दक्षिण भारत में मनाया जाता है. चार दिनों तक मनाया जानेवाला यह त्यौहार कृषि एवं फसल से सम्बंधित देवता को समर्पित है. पारंपरिक रूप से सम्पन्नता को समर्पित इस त्यौहार के दिन भगवान सूर्यदेव को जो प्रसाद भोग लगाया जाता है उसे पोगल कहा जाता है, जिस कारण इस त्यौहार का नाम पोंगल पड़ा. पोंगल त्यौहार मुख्यतः चार तरह का होता है, भोगी पोंगल, सूर्य पोंगल, मट्टू पोंगल और कन्या पोंगल. यह चार पोंगल क्रमशः इस चार दिनों के त्यौहार में क्रमबद्ध रूप से मनाए जाते हैं. इस पर्व में पहला दिन भगवान् इन्द्र की पूजा होती है और नाच-गान होता है, दूसरे दिन चावल उबाला जाता है और सूर्य भगवान की पूजा होती है, तीसरे दिन सब लोग पशुओं का पूजन कर उनका आरती उतारते हैं और चौथे रोज़ मिटा पोंगल बनाया जाता है और भाइयों के लिए पूजा की जाती है.
तमिल का यह प्रसिद्ध पर्व पशुधन पूजा में बिल्कुल गोवर्धन पूजा की तरह होता है. यह पर्व बहुत ही जोर शोर से मनाया जाता है. इस दिन बैलों की लड़ाई होती है जो कि काफी प्रसिद्ध है. रात्रि के समय लोग सामूहिक भोज का आयोजन करते हैं और एक दूसरे को मंगलमय वर्ष की शुभकामनाएं देते हैं. इस पवित्र अवसर पर लोग फसल के लिए, प्रकाश के लिए, जीवन के लिए भगवान् सूर्यदेव के प्रति पोंगल पर्व पर कृतज्ञता व्यक्त करते हैं.

Pongal 2014
Kisano ka tyohar Pongal mukhya roop se Dakshin Bharat me manaya jata hai. Char dino tak manaya janewala yah tyohar krishi evam phasal se sambandhit devta ko samarpit hai. Paramparik roop se sampannata ko samarpit is tyohar ke din Bhagvan Suryadev ko jo Prasad bhog lagaya jata hai, use Pogal kaha jata hai, jis karan is tyohar ka naam Pongal pada. Pongal tyohar mukhyatah char tarah ka hota hai, Bhogi Pongal, Surya Pongal, Mattu Pongal aur Kanya Pongal. Yah char pongal kramshah is char dino ke tyohar me krambaddh roop se manaye jate hain. Is parv me pahla din Bhagvan Indra ki pooja hoti hai aur naach-gaan hota hai, dusre din chaval ubala jata hai aur Surya Bhagvan ki pooja hoti hai, tisre din sab log pashuo ka poojan kar unka aarti utarte hain aur chauthe roz Mita Pongal banaya jata hai aur bhaiyon ki pooja ki jati hai.
Tamil ka yah prasiddh parv Pashudhan pooja me bilkul Govardhan Pooja ki tarah hota hai. Yah parv bahut hi jor-shor se manaya jata hai. Is din bailo ki ladaai hoti hai jo ki kafi prasiddh hai. Ratri ke samay log samuhik bhoj ka aayojan karte hain aur ek dusre ko mangalmay varsh ki shubhkamnayen dete hain. Is pavitra avsar par log fasal ke liye, prakash ke liye, jivan ke liiye Bhagvan Suryadev ke prati Pongal parv par kritagyata vyakt karte hain.

Raftaar.in

फोटो गैलरी